Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

BRICS Summit: पीएम मोदी बोले- आतंकवाद से मिलकर लड़ेंगे, पुतिन ने अफगानिस्तान के ताजा हालातों को बताया चिंताजनक

दुनिया के 5 बड़े देशों ब्राजील, भारत, चीन, रूस और दक्षिण अफ्रीका के संगठन ब्रिक्स की आज शिखर बैठक हुई। वर्चुअल बैठक की अध्यक्षता पीएम नरेन्द्र मोदी ने की। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि ब्रिक्स देश आतंकवाद से मिलकर मुकाबला करेंगे। इस दौरान अफगानिस्तान संकट को लेकर भी चिंता जाहिर की गई।

BRICS Summit: पीएम मोदी बोले- आतंकवाद से मिलकर लड़ेंगे, पुतिन ने अफगानिस्तान के ताजा हालातों को बताया चिंताजनक
X

BRICS Summit: रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन

BRICS Summit: पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आज ब्रिक्स के 13वें शिखर सम्मेलन में अफगानिस्तान संकट का मुद्दा (Afghanistan crisis issue) भी उठा। साथ ही भविष्य को लेकर चिंता जाहिर की गई। यह भी आशंका जाहिर की गई कि ऐसा ना हो जाए कि अफगानिस्तान आतंकवादियों का अड्डा ना बन जाएं।

ब्रिक्स समिट को वर्चुअल माध्यम से संबोधित करते वक्त रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Russian President Vladimir Putin) ने अफगानिस्तान की ताजा हालत के लिए अमेरिका व उसके सहयोगियों की आलोचना की। पुतिन ने कहा कि अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी ने यहां एक नया संकट उत्पन्न किया है। वहीं उन्होंने आशंका जाहिर की कि इन हालातों के बीच अफगानिस्तान पड़ोसियों के लिए संकट, आतंक का सोर्स और ड्रग्स तस्करी का अड्डा नहीं बन जाए। आगे राष्ट्रपति पुतिन ने कहा कि यह अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि अफगानिस्तान संकट का क्षेत्रीय और वैश्विक सुरक्षा पर कैसा प्रभाव पड़ने वाला है। वहीं पुतिन ने कहा कि यह बहुत अच्छा है कि ब्रिक्स देशों ने इस मसले पर खास ध्यान दिया है।

पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने बुधवार की शाम को 13वें ब्रिक्स समिट (13th BRICS Summit) को संबोधित किया। जिससे सभी ब्रिक्स देशों के राष्ट्राध्यक्ष (Heads of BRICS countries) वर्चुअल माध्यम से जुड़े। ब्रिक्स समिट की अध्यक्षता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कर रहे हैं। इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि संसाधनों के साझा उपयोग पर जोर दिया। साथ ही पीएम मोदी ने आतंकवाद (terrorism) के खिलाफ ब्रिक्स देश द्वारा मिलकर लड़ने की बात कही। आपको बता दें भारत ही इस ब्रिक्स सम्मेलन का आयोजक है व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस सत्र की अध्यक्षता की।

पीएम नरेंद्र मोदी ने बताया कि भारत की अध्यक्षता के दौरान हमें सभी ब्रिक्स साथियों से भरपूर सहयोग मिला है। जिसके लिए वह आप सभी के आभारी हैं। पीएम मोदी ने कहा कि इन 15 वर्षों में ब्रिक्स ने कई उपलब्धियां प्राप्त की हैं। आज हम ब्रिक्स देश विश्व की प्रभावकारी आवाज बन गए हैं। पीएम मोदी ने कहा कि विकासशील देशों की प्राथमिकताओं पर गौर करने के लिए यह मंच काफी उपयोगी साबित हो रहा है।

भविष्य के 15 वर्ष के लिए ब्रिक्स की भूमिका अहम हो

पीएम नरेंद्र मोदी ने बताया कि ब्रिक्स ने एनर्जी रिसर्च कॉरपोरेशन और न्यू डेवलपमेंट बैंक जैसे प्लेटफॉर्म स्टार्ट किए हैं। गर्व करने के लिए हम पर काफी कुछ है। ये भी आवश्यक है कि हम आत्मसंतुष्ट नहीं हों। हमें यह भी तय करना होगा कि ब्रिक्स भविष्य के 15 वर्षों के लिए उपयोगी हो।

इस बात पर दिया गया जोर

पीएम मोदी ने बताया कि हमने ब्रिक्स काउंटर टेररिज्म योजना एग्जिक्यूट की है। हमने समझौते से सहयोग का नई पारी शुरू की है। जिससे इंट्रा ब्रिक्स व्यापार सुलभ होगा। साथ टीकाकरण रिसर्च सेंटर भी बनेगा। इन प्रयासों से ना केवल हमारी जनता को लाभ मिलेगा, बल्कि इससे ब्रिक्स का रोल भी अहम हो जाएगा। उन्होंने कहा कि यह मीटिंग ब्रिक्स को आगे और उपयोगी बनाने में कारगर होगी।

भविष्य में मिलकर करेंगे कार्य: शी-जिनपिंग

ब्रिक्स सममिट में चीन के राष्ट्रपति शी-जिनपिंग ने बताया कि यह ब्रिक्स की 15वीं सालगिरह है। बीते 15 वर्ष में हमने सियासी भरोसा बढ़ाया है व साथ ही कूटनीतिक वार्ता को बढ़ावा दिया है। हमने एक-दूजे से बातचीत का मजबूत मार्ग निकाला है। हमने कई इलाकों में कामयाबी हासिल की है। हम सभी अपने साझा विकास की यात्रा साथ में कर रहे हैं। इस वर्ष की शुरुआत से हमारे साथी देश महामारी से उबरने का प्रयास कर रहे हैं। साथ ही हमने कई क्षेत्रों में उपलब्धि हासिल की है। वहीं चीनी राष्ट्रपति ने कहा कि ब्रिक्स के भविष्य के लिए हम सभी मिलकर कार्य करेंगे। हम अपनी चुनौतियों पर पार पाने के लिए साझा संसाधनों के आधार पर रणनीति तय करेंगे। साथ ही ब्रिक्स के भविष्य को मजबूत करेंगे।

Next Story