Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सांसद संजय राउत का बीजेपी पर बड़ा आरोप, गठबंधन वाली सरकार में BJP ने शिवसेना को 'गुलाम' माना

शिवसेना सांसद संजय राउत ने आरोप लगाया है कि जब शिवसेना महाराष्ट्र में बीजेपी के साथ सत्ता में थी। तब गुलामों जैसा बर्ताव किया गया।

सांसद संजय राउत का बीजेपी पर बड़ा आरोप, गठबंधन वाली सरकार में BJP ने शिवसेना को गुलाम माना
X

महाराष्ट्र में बड़े नेताओं की मुलाकात के बाद से राजनीतिक गलियारों में बयानबाजी का दौर शुरू हो चुका है। शिवसेना सांसद संजय राउत ने बीजेपी पर गंभीर आरोप लगाया है। संजय राउत ने आरोप लगाया है कि जब शिवसेना महाराष्ट्र में बीजेपी के साथ सत्ता में थी। तब गुलामों जैसा बर्ताव किया गया।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, राज्यसभा सांसद संजय राउत ने शनिवार को कहा कि जब शिवसेना महाराष्ट्र में भाजपा के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार का हिस्सा थी, तो उसके साथ गुलामों जैसा बर्ताव किया गया था। जलगांव में एक कार्यक्रम के दौरान राउत ने आरोप लगाया कि भाजपा ने सरकार में शिवसेना को दूसरा दर्जा देकर खत्म करने की कोशिश की।

बीते दिनों उद्धव ठाकरे और पीएम मोदी की मुलाकात के बाद से ही बयान जारी है। बीते दिनों संजय राउत ने पीएम मोदी की तारीफ की थी और अब बीजेपी पर तंज कसा है। साल 2019 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों के बाद मुख्यमंत्री कौन बनेगा इसको लेकर शिवसेना और बीजेपी के बीच विवाद बड़ा और गठबंधन खत्म हो गया। इसके बाद शिवसेना ने एनसीपी और कांग्रेस के साथ गठबंधन किया और उद्धव ठाकरे के साथ मुख्यमंत्री के रूप में महा विकास अघाड़ी सरकार बनाई।

संजय राउत ने कहा कि पिछली सरकार में शिवसेना को द्वितीयक दर्जा दिया गया था और उसके साथ दासों की तरह बर्ताव किया गया था। उसी शक्ति का दुरुपयोग करके हमारी पार्टी को खत्म करने का प्रयास किया गया था, जो हमारे समर्थन के कारण हमें मिल थी। शिवसैनिकों को कुछ न मिले तो भी हम गर्व से कह सकते हैं कि राज्य का नेतृत्व अब शिवसेना के हाथ में है।

अभी हाल ही में प्रशांत किशोर ने बीते शुक्रवार को एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार से मुंबई में उनके आवास पर मुलाकात की और उनके साथ लगभग 3 घंटे तक बातचीत की। जिसके बाद राजनीतिक हलकों में बयानबाजी तेज हो गई। एनसीपी ने कहा कि मौजूदा राजनीतिक स्थिति पर चर्चा करने के अलावा पवार ने किशोर के लिए लंच का इंतजाम किया था। दोनों नेताओं के बीच बैठक दोपहर 2 बजे तक चली। लेकिन न तो किशोर और न ही पवार ने मीडिया से बातचीत की।

Next Story