Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बेंगलुरु हिंसा में तीन की मौत, कई पुलिसकर्मी घायल, चश्मदीद ने कहा पुलिस की नहीं जनता की थी गलती

बीती रात हुई बेंगलरु हिंसा में तीन लोगों की मौत हो गई। जबकि 60 से अधिक पुलिसकर्मी घायल हो गए। इस मामले में पुलिस ने अभी तक 110 लोगों को गिरफ्तार किया है। वहीं इस हिंसा के चश्मदीद गवाह आज अपने बयान दर्ज कराने पुलिस स्टेशन पहुुुंचे हैं।

Editors Guild ने दिल्ली और बेंगलुरु में पत्रकारों के साथ हुए व्यवहार पर की टिप्पणी, कहा मीडिया की रक्षा करने में पुलिस प्रशासन फेल
X
बेंगलुरु हिंसा

बेंगलुरु हिंसा में बीती रात हुई हिंसा में तीन लोगों की मौत हो गई। वहीं, 60 से अधिक पुलिसकर्मी घायल हो गए। इस मामले में पुलिस ने अभी तक 110 लोगों को गिरफ्तार किया है। इस गिरफ्तारी में सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) के एक नेता मुजम्मिल पाशा भी शामिल है।

SDPI की ओर से भी इस बात की पुष्टि की गई है। बता दें कि इसी संगठन का नाम हिंसा को भड़काने में आ रहा था। वहीं, हिंसा के चश्मदीद गवाह शरीफ आज अपने बयान दर्ज कराने पुलिस स्टेशन पहुंचे हैं।

शरीफ ने दर्ज कराया अपना बयान

आपको बता दें कि डीजे हल्ली पुलिस स्टेशन में हुई हिंसा के दौरान शरीफ उसी स्थल पर मौजूद था। जिसने पूरी घटना को होते हुए अपने आंखो से देखा है। शरीफ ने न्यूज एजेंसी से बातचीत करते हुए बताया कि मैं सिविल डिफेंस से हूं और पुलिस की सुरक्षा के लिए आया था।

इसमें पुलिस की नहीं बल्कि जनता की गलती थी। पुलिस पर पथराव किया गया था। जिसमें 60 से अधिक पुलिसकर्मी घायल हो गए। पुलिस स्टेशन मेरे लिए मंदिर, मेरे लिए मस्जिद की तरह है। फिलहाल पुलिस बयान के आधार पर और गिरफ्तार लोगों से पूछताछ कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।

शहर में लगाया गया धारा 144

बेंगलुरु पुलिस कमिश्नर कमल पंत ने बताया कि घटना के बाद से डीजे हाली-केजी हाली पुलिस स्टेशन क्षेत्र में कर्फ्यू लगा दिया गया है। वहीं, पूरे शहर में धारा 144 लागू कर दी गई है। इसके अलावा सुरक्षा को देखते हुए RAF, CISF, CRPF को चारों तरफ तैनात किया गया है। उधर, सीएम बी॰ एस॰ येदयुरप्पा ने लोगों से अपील की है कि लोग शांति बनाए रखें।

साथ ही सोशल मीडिया या किसी भी तरह की अफवाह में ना आए।

फेसबुक पोस्ट के जरिए भड़की हिंसा

जानकारी के लिए आपको बता दें कि बीती रात हुई हिंसा ने तीन लोगों की जान ले ली। सूत्रों के मुताबिक ये हिंसा फेसबुक पोस्ट के द्वारा फैलाया गया था। इसके बाद उपद्रवियों ने वाहनों को आग में झोक दिया था। इसके अलावा थाने में तोड़फोड़ की और कांग्रेस विधायक श्रीनिवास मूर्ति के घर भी हमला किया।

हालांकि पहले से हालात अभी काबू में है।

Priyanka Kumari

Priyanka Kumari

Jr. Sub Editor


Next Story