Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Ayodhya Verdict : राम जन्मभूमि पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला देते वक्त कहीं ये महत्वपूर्ण बातें, सुप्रीम कोर्ट का पूरा आदेश पढ़ें

अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुना दिया है। पांच जजों की बेंच ने राम जन्मभूमि न्यास को जमीन सौंपी है। जबकि मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही पांच एकड़ जमीन देने का आदेश दिया है।

राम जन्मभूमि पर सुप्रीम कोर्ट ने सर्व सम्मति से हिंदुओं के पक्ष में दिया फैसला, राम जन्मभूमि ट्रस्ट को जमीन देने का आदेशसुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में विवादित जमीन राम मंदिर न्यास को सौंपने का दिया आदेश

अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद पर शनिवार को ऐतिहासिक फैसला सुनाया गया है। सुप्रीम कोर्ट में सुबह 10.30 बजे फैसला सुनाने की प्रक्रिया शुरू हुई। करीब 45 मिनट के बाद अंतिम फैसला सुनाया गया है। सुप्रीम कोर्ट के 5 जजों की बेंच ने सर्व सम्मति से मामले पर हिंदुओं के पक्ष में फैसला दिया है। राम जन्मभूमि निर्माण के लिए जमीन दी गई है। जबकि मुस्लिमों को वैकल्पिक जमीन देने का आदेश दिया गया है।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश में राम जन्मभूमि न्यास का गठन कर रामलला को जमीन का अधिकार दिया गया है। जबकि मुस्लिम पक्ष को पांच एकड़ जमीन देने के निर्देश दिए गए हैं। सुन्नी वक्फ बोर्ड को जमीन दी जाएगी। वहीं जमीन पर रामलला का दावा माना है। हालांकि जमीन का अधिकार ट्रस्ट को सौंपने के निर्देश दिए हैं। तीन माह में केंद्र को राम जन्मभूमि ट्रस्ट बनाने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए सरकार बोर्ड ऑफ ट्रस्टी बनाए। इसके अलावा केंद्र को राम जन्मभूमि निर्माण संबंधी नियम जल्द बनाने के लिए कहा है। पक्षकार गोपाल विशारद को पूजा करने का अधिकार दिया गया है।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि अयोध्या राम की जन्मभूमि है इसको लेकर कोई विवाद ही नहीं है। मुस्लिम पक्ष जमीन पर अपना अधिकार साबित नहीं कर पाया है। अंग्रेजों के आने के बाद 18वीं सदी तक नमाज के कोई सबूत नहीं। हालांकि 1949 तक प्रत्येक शुक्रवार को वहां नमाज पढ़ी जाती थी। जबकि अंग्रेजों के आने से पहले हिंदू राम चबूतरा, सीता रसोई की पूजा करते थे। जिसके रिकार्ड में प्रमाण हैं। मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि मुस्लिमों के पास जमीन का कब्जा भी नहीं है। जबकि हिंदुओं के पास बाहरी आहते की जमीन का अधिकार है।

बाबर के दौर में बनायी गई मस्जिद

सीजेआई रंजन गोगोई ने कहा कि बाबर के दौर में मस्जिद बनायी गई थी। बाबरी मस्जिद खाली जमीन पर नहीं बनी थी। सीजेआई ने कहा कि पुरातात्विक सबूतों को खारिज नहीं कर सकते। उनका मूल्यांकन करने की जरुरत है। एएसआई ने अपनी रिपोर्ट में मंदिर बने होने की बात कही है। लेकिन आस्था और विश्वास पर मालिकाना हक नहीं बनता। आस्था के बजाए कानून के आधार पर फैसला होगा। क्योंकि मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाने की पुख्ता जानकारी नहीं है।

खुदाई में इस्लामिक ढांचा नहीं मिला

रंजन गोगोई ने कहा कि खुदाई में जो मिला वो इस्लामिक ढ़ांचा नहीं है। एएसआई ने मस्जिद का जिक्र नहीं किया। रिपोर्ट में 12वीं शताब्दी का मंदिर होने की बात कही गई है। लेकिन यह जमीन, राम जन्म भूमि है या नहीं, ये स्पष्ट नहीं है। हिंदुओं की आस्था वहां पर है कि राम का जन्म हुआ है। हिंदू आस्था और उसके गलत होने का कोई प्रमाण नहीं है। लेकिन आस्था पर कोई सवाल नहीं है। जमीन विवाद पर फैसला कानूनी आधार पर किया जाएगा। मंदिर गिराकर मस्जिद बनाने के कोई प्रमाण नहीं है। उन्होंने कहा कि एएसआई की रिपोर्ट में गुंबद के नीचे मंदिर होने के प्रमाण की बात कही है। इस दौरान न्यायालय ने निर्मोही अखाड़े के दावा खारिज कर दिया है। निर्मोही अखाड़े का दावा लिमिटेशन से बाहर का है। निर्मोही अखाड़े को सेवायत का अधिकार नहीं है।

जानकारी के मुताबिक मामले पर दोपहर बाद ही फैसला आने की उम्मीद है। सुप्रीम कोर्ट में सुनवायी से पहले एहतियातन यूपी के कई जिलों में इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया है। इसके अलावा विद्यार्थियों की 11 नवंबर तक छुट्टी कर दी गई है।

दूसरी तरफ आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत 1 बजे करेंगे प्रेसवार्ता। सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद प्रेस वार्ता की जाएगी। जिसमें राष्ट्र के नाम दे सकते हैं महत्वपूर्ण संदेश। आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। आरएसएस का कहना है कि मोहन भागवत दिल्ली में केशवकुंज परिसर, झंडेवालान में मीडिया के माध्यम से राष्ट्र को संबोधित करेंगे। वहीं गृहमंत्री अमित शाह ने सुरक्षा व्यवस्था को लेकर उच्च स्तरीय बैठक बुलायी है। जिसमें एनएसए अजीत डोवाल, आईबी प्रमुख अरविंद कुमार सहित अन्य भाग ले रहे हैं।

अयोध्या राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद पर फैसले से जुड़े Live Update...

* अयोध्या पर फैसले के मद्देनजर जम्मू कश्मीर में सुरक्षा बढ़ाई गई। दोनों केंद्र शासित राज्यों में दोबारा से पाबंदियां लगा दी गई हैं।

* तमिलनाडू के मुख्यमंत्री पलानीस्वामी ने कहा कि अम्मा (दिवंगत जयललिता) सरकार तमिलनाडु में कानून एवं व्यवस्था की अच्छी स्थिति सुनिश्चित कर रही है और लोग साम्प्रदायिक सौहार्द्र तथा भाईचारा बना रहे हैं

* बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार ने कहा कि लोग शांति बनाकर रखें। सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पालन करें।

* सुप्रीम कोर्ट में रंजन गोगाई के केबिन के बाहर वकीलों का जमावड़ा लगना शुरू। सुप्रीम कोर्ट में वकीलों का प्रवेश रोक दिया गया है।

* भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह की ओर से सभी प्रवक्ताओं को बुलाया गया है। उनके साथ बैठक कर जरूरी हिदायतें दी जाएंगी। ताकि राष्ट्रीय चैनल, मीडिया पर गलत बयानबाजी को रोका जा सके।

* सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता सुप्रीम कोर्ट पहुंचे। थोड़ी देर में अयोध्या पर फैसला सुनाने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

* सुप्रीम कोर्ट में प्रवेश को लेकर नियम कड़े किए गए। वकीलों के प्रवेश पर भी लगायी गई रोक। सिर्फ मामले से जुड़े लोगों का ही प्रवेश होगा। इसके अलावा एससीबीए कार्ड वाले वकील ही सुप्रीम कोर्ट जा सकेंगे।

* भाजपा नेता और मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने कहा कि न्याय व्यवस्था बनाकर रखना हम सबकी जिम्मेदारी है। हमें हमेशा अपने अधिकारों एवं कर्तव्यों के प्रति सजग रहना होगा, इसलिए कोर्ट का जो भी निर्णय होगा, हमें भारत के नागरिक होने के नाते अपने अधिकार के साथ अपने ज़िम्मेदारी को भी याद रखना होगा। एक नागरिक होने के नाते हमारी यह ज़िम्मेवारी है कि हमारे देश में शांति एवं सद्भावना रहे।

* कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने कहा है कि जैसा कि आप सबको पता है, अयोध्या मामले पर आज उच्चतम न्यायालय का फैसला आने वाला है। इस घड़ी में न्यायालय का जो भी निर्णय हो, देश की एकता, सामाजिक सद्भाव, और आपसी प्रेम की हज़ारों साल पुरानी परम्परा को बनाए रखने की ज़िम्मेदारी हम सबकी है । ये महात्मा गांधी का देश है। अमन और अहिंसा के संदेश पर क़ायम रहना हमारा कर्तव्य है।

* योग गुरू बाबा रामदेव ने कहा देश संविधान से चलता है। कोर्ट के फैसले का सम्मान होना चाहिये।

* अयोध्या में राम जन्मभूमि के आसपास भारी संख्या में पुलिस बल तैनात। इसके अलावा अयोध्या हनुमान गढ़ी मंदिर सिहत अन्य धार्मिक स्थलों की भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है। अयोध्या के ऊपर आसमान से नजर रखी जा रही है। उत्तर प्रदेश डीजीपी ने कहा कि एरियल सर्वे कर लिया गया है। 60 अर्थसैनिक बलों की टुकड़ियां तैनात की गई हैं।

* उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने भी शांति बनाए रखने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि प्रत्येक व्यक्ति सुप्रीम कोर्ट के फैसले में आस्था रखे।

* कर्नाटक में एहतियातन धारा 144 लागू कर दी गई है। इसके अलावा हुबली और धारवाड में शराब की बिक्री पर रोक लगा दी गई है।

* दिल्ली के संयुक्त पुलिस आयुक्त आईडी शुक्ला ने कहा कि दिल्ली में सुरक्षा के सभी जरूरी कदम उठाए हैं। किसी भी अप्रिय घटना के होने का कोई सवाल ही नहीं उठता।

* झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास ने कहा है कि अयोध्या मामले पर आने वाले फैसले पर झारखंड के सभी नागरिकों से अपील है कि फैसला जो भी हो हम उसे सहर्ष स्वीकार करें। किसी प्रकार की अफवाह पर ध्यान न दें। कोई अफवाह फैलाये तो इसकी सूचना प्रशासन को दें।

* सुप्रीम कोर्ट के बाहर पुलिस बल तैनात। पुलिस को उच्च अधिकारियों ने दिए जरूरी निर्देश।

* राजस्थान सरकार ने शनिवार को स्कूलों की छुट्टी की। भरतपुर में इंटरनेट पर रोक। जैसलमेर में 30 नवंबर तक धारा 144 लागू। 1 व्यक्ति को हिरासत में लिया गया है।

* सोशल मीडिया पर भडकाऊ पोस्ट करने पर यूपी में 70 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया।

* मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सुप्रीम कोर्ट में आस्था रखने की अपील।

* अयोध्या में धारा 144 लागू कर दी गई है। हालांकि लोग सरयू नदी में आस्था की डुबकी लगा रहे हैं।


Next Story
Share it
Top