Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Ayodhya Verdict: विश्व हिंदू परिषद ने कहा- न्याय की विजय हुई, आक्रामक नहीं होनी चाहिए यह प्रसन्नता

विश्व हिंदू परिषद (VHP) ने कहा कि यह महत्वपूर्ण निर्णय भव्य राम मंदिर (Ram Temple) के निर्माण में एक महत्वपूर्ण और निर्णायक कदम है। हम विश्वास करते हैं कि भगवान राम (Lord Ram) के भव्य मंदिर का यथाशीघ्र निर्माण होगा।

Ayodhya Verdict: विश्व हिंदू परिषद ने कहा- न्याय की विजय हुई, आक्रामक नहीं होनी चाहिए यह प्रसन्नतासुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले पर ऐतिहासिक फैसला सुनाया, दुनिया के अनेक स्थलों पर अब भी विवाद चल रहे हैं।

अयोध्या विवाद (Ayodhya Dispute) को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के बड़े फैसले पर विश्व हिंदू परिषद की प्रतिक्रिया भी सामने आई है। वीएचपी (VHP) ने इस पर एक बयान जारी करते हुए लिका कि इस फैसले से विश्वभर में हिंदू समाज में अपार प्रसन्नता है। हिंदू का मर्यादा में रहने का स्वभाव है इसलिए यह प्रसन्नता आक्रामक नहीं होनी चाहिए। इसमें कोई पराजित नहीं हुआ है।

विश्व हिंदू परिषद ने कहा कि आज अत्यंत प्रसन्नता और समाधान का दिन है। शताब्दियों से चले आ रहे संघर्ष, अनेक युद्ध और बलिदानों के बाद सुप्रीम कोर्ट ने न्याय और सत्य को उद्घोषित किया है। चालीस दिन और 200 से अधिक घंटे की मैराथन सुनवाई के बाद और सब प्रकार की बाधाओं से विचलित हुए बिना दिया गया यह निर्णय विश्व के महानतम निर्णयों में से एक है। हिंदू समाज लगभग 70 सालों के न्यायिक संघर्ष के बाद इस निर्णय की अधीरता से प्रतीक्षा कर रहा था। अंतत: न्याय की विजय हुई। हम सुप्रीम कोर्ट के प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त करते हैं।

आज कृतज्ञता का दिन

बयान में आगे कहा गया है कि आज कृतज्ञता का भी दिन है। सबसे पहली कृतज्ञता उन ज्ञात और अज्ञात राम भक्तों के लिए जिन्होंने इन संघर्षों में हिस्सा लिया, कष्ट सहे और अनेकों बलिदान दिए। भारत के पुरातत्व विभाग जिनके अथक प्रयासों और अविवादित तकनीकी विशेषज्ञता के कारण माननीय न्यायधीश इस महत्वपूर्ण निर्णय पर पहुंच सके, विशेष तौर पर अभिनंदन के पात्र हैं।

महत्वपूर्ण और निर्णायक कदम

विश्व हिंदू परिषद ने कहा कि यह महत्वपूर्ण निर्णय भव्य राम मंदिर के निर्माण में एक महत्वपूर्ण और निर्णायक कदम है। हम विश्वास करते हैं कि भगवान राम के भव्य मंदिर का यथाशीघ्र निर्माण होगा। यह निश्चित है कि जैसे-जैसे यह मंदिर बनेगा, समाज में मर्यादाएं, समरसता, संगठन, हिंदू जीवन जीने का प्रत्न बढ़ेगा और एक सबल, संगठित, संस्कारित हिंदू समाज विश्व में शांति और समन्वय स्थापित करने के अपने दायित्व को पूरा कर सकेगा।

Next Story
Share it
Top