Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

असम ने नागालैंड से सीमा विवाद को किया समाप्त, मिजोरम के साथ तनातनी पर सीएम बिस्वा ने दी बड़ी सलाह

असम और मिजोरम के बीच सीमा विवाद को लेकर 26 जुलाई को खूनी संघर्ष होने के बाद भी तनातनी बरकरार है। मिजोरम पुलिस की ओर से असम के सीएम हिमंत बिस्वा पर केस दर्ज करने के बाद से तो यह विवाद और भी गहरा गया है। असम के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा का इस पूरे मसले पर क्या कहना है, इस रिपोर्ट में पढ़िये...

असम ने नागालैंड से सीमा विवाद को किया समाप्त, मिजोरम के साथ तनातनी पर सीएम बिस्वा ने दी बड़ी सलाह
X

असम के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा पत्रकारों से बातचीत करते हुए। 

मिजोरम के साथ चल रहे सीमा विवाद के बीच असम सरकार ने नागालैंड के साथ चल रहे ऐसे ही विवाद को समाप्त कर दिया है। आज असम और नागालैंड सरकारों के मुख्य सचिवों ने एक एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर किया, जिसमें तय हुआ कि दोनो सरकारों की पुलिस बॉर्डर क्षेत्र में जहां आमने सामने थी, वो अपने राज्य के बेस कैंप तक लौटकर चली जाएगी। एग्रीमेंट में यथास्थिति बनाए रखने पर सहमति बनी है। इस बीच असम के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा ने मिजोरम पुलिस की ओर से अपने ऊपर दर्ज केस पर भी प्रतिक्रिया दी है।

न्यूज एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक असम के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा ने मिजोरम पुलिस की ओर से की गई कार्रवाई पर कहा कि यह बच्चों का काम है। जिस जगह झगड़ा हुआ था, वो जगह असम की थी और है। ऐसे में असम पुलिस का ही केस के लिए अधिकार बनता है। उन्होंने कहा कि अगर कोई केस रजिस्टर हुआ है तो अच्छा है। हिमंत बिस्वा ने सलाह दी कि दोनों सरकारों को केस एनआईए के सुपुर्द कर देना चाहिए।

वहीं नागालैंड के साथ हुए समझौते पर सीएम बिस्वा ने कहा कि दोनों राज्यों की सीमाओं पर यथास्थिति बनी रहे, इस पर सबकी नजर रहेगी। उन्होंने कहा कि यह बहुत बड़ा लैंडमार्क है। इसके लिए मैं नागालैंड के मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त करता हूं। इससे असम और नागालैंड के बीच की फेंसिंग को और बल मिलेगा।

बता दें कि बता दें कि असम और मिजोरम के बीच सीमा विवाद को लेकर 26 जुलाई को खूनी संघर्ष हुआ था और उसके बाद से अब तक दोनों राज्यों के बीच तनाव बना हुआ है। हिंसा के दौरान असम पुलिस के छह जवानों के अलावा एक नागरिक की मौत हो गई और दोनों पक्षों के 50 से अधिक लोग घायल हो गए। मिजोरम पुलिस ने असम के सीएम हिमंत बिस्वा के साथ ही राज्य पुलिस के 4 वरिष्ठ अधिकारियों और 2 अन्य अधिकारियों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज किए हैं।

और पढ़ें
Next Story