Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अरुण जेटली ने तिहाड़ जेल में अटल बिहारी वाजपेयी और लाल कृष्ण आडवाणी के साथ बिताई थी रातें

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का आज 67 साल की उम्र में दिल्ली के एम्स में निधन हो गया है। अरुण जेटली ने दोपहर 12:07 बजे अंतिम सांस ली।

अरुण जेटली ने तिहाड़ जेल में अटल बिहारी वाजपेयी और लाल कृष्ण आडवाणी के साथ बिताई थी रातें

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का आज 67 साल की उम्र में दिल्ली के एम्स में निधन हो गया है। अरुण जेटली ने दोपहर 12:07 बजे अंतिम सांस ली। अरुण जेटली लाल कृष्ण आडवाणी, नरेंद्र मोदी और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी से गहरे संबंध रखते थे। अरुण जेटली के दुनिया को अलविदा कहते ही भाजपा पार्टी को बड़ा झटका भी लग गया है।

इससे पहले पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने दुनिया को अलविदा कहकर भाजपा का साथ छोड़ दिया था। अरुण जेटली के बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं कि उन्होंने अटल बिहारी वाजपेयी, लाल कृष्ण आडवाणी और के. आर. मलकानी के अलावा 11 और राजनीतिक नेताओं के साथ रात बिताई थी।


अरुण जेटली ने तिहाड़ जेल में बिताई रातें

दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्र संघ के अध्यक्ष अरुण जेटली 25 जून 1975 को अपने नारायणा वाले आवास के आंगन में सोए हुए थे। देर रात जब शोर हुआ तो उन्होंने देखा कि उनके पति पुलिसकर्मियों के साथ बहस कर रहे थे। ये पुलिसवालों ने उनके पिता को गिरफ्तार करने के लिए आए थे। इसी बीच अरुण जेटली पीछे के दरवाजे से निकलकर अपने पड़ोसी दोस्त के यहां पहुंचे और वहीं रात बिताई।

अरुण जेटली सुबह होने पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के लगभग 200 छात्रों को इकट्ठा किया और दिल्ली यूनिवर्सिटी के कुलपति के ऑफिस के सामने जमा हो गए। ऑफिस के सामने एक भाषण दिया और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का पुतला भी फूंका।

इसकी जानकारी मिलने के बाद डीआईजी पीएस भिंडर के नेतृत्व में पुलिसकर्मियों ने पूरे इलाकों को चारों और से घेरकर अरुण जेटली को गिरफ्तार कर लिया था। अरुण जेटली को तिहाड़ जेल में रखा गया था।


तिहाड़ जेल में अरुण जेटली को उस सेल में रखा गया था जिसमें लाल कृष्ण आडवाणी, अटल बिहारी वाजपेयी और केआर मलकानी के अलावा 11 और राजनीतिक कैदियों का रखा गया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अरुण जेटली के बेहद करीबी दोस्त माने जानें वाले अनिप सचदे बताते हैं कि अरुण जेटली का राजनीतिक काArun Jaitley 'जन्म' यूनिवर्सिटी कैंपस में न होकर तिहाड़ जेल की कोठरी में हुआ था। जेल से रिहा होते अरुण जेटली को इस बात का अंदाजा हो गया था कि अब उनका राजनीति कॅरियर होने जा रहा है।

Next Story
Share it
Top