Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Arun Jaitley Health : अरुण जेटली की हालत नाजुक, इस बीमारी से हैं पीड़ित

Arun Jaitley Health भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली गंभीर बीमारी के चलते करीब पिछले एक हफ्ते से दिल्ली स्थित ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (एम्स) में भर्ती हैं।

Arun Jaitley Health : अरुण जेटली की हालत नाजुक, इस बीमारी से हैं पीड़ित
X

Arun Jaitley Health भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली गंभीर बीमारी के चलते करीब पिछले एक हफ्ते से दिल्ली स्थित ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (एम्स) में भर्ती हैं। जहां उनकी हालत नाजुक बताई जा रही है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज अरुण जेटली की सेहत का हालचाल जानने के लिए एम्स पहुचे। अस्पताल में उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया है।

खबरों की माने तो एम्स की तरफ से अरुण जेटली की सेहत को लेकर लेटेस्ट अपडेट अभी नहीं दिया गया है। बता दें कि अरुण जेटली को 9 अगस्त को सांस में तकलीफ होने पर एम्स में भर्ती कराया गया था। उस दौरान डॉक्टर्स ने मेडिकल रिपोर्ट में बताया था कि उनकी हालत में सुधार हो रहा है। पर अब खबर है कि उनकी हालत खराब हो रही है।

डॉक्टरों की एक टीम अरुण जेटली की निगरानी कर रही है। टीम के साथ एंडोक्रिनोलॉजिस्ट्स, कार्डियोलॉजिस्ट्स और नेफ्रोलॉजिस्ट्स भी शामिल हैं। 9 अगस्त यानी जब से अरुण जेटली को एम्स में भर्ती किया गया है तब से अब तक पीएम मोदी, केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, अमित शाह और बाबा रामदेव समेत कई नेता उनसे मिलने पहुंच चुके हैं। इनके अलावा भी भारतीय जनता पार्टी के कई और विपक्ष के कई नेता भी अरुण जेटली को देखने एम्स पहुंचे।

चलिए आइए जानें है पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली किस बीमारियों से जूझ रहे हैं!

जैसा की आपको मालूम है पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली पिछले काफी दिनों से अस्वस्थ चल रहे हैं। किडनी संबंधी बीमारी से जूझ रहे अरुण जेटली का बीते वर्ष मई में किडनी ट्रांसप्लांट (प्रत्यारोपण) हुई थी। लेकिन किडनी संबंधी बीमारी के साथ अरुण जेटली कैंसर से भी जूझ रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के बांय (लेफ्ट) पैर में टिशू कैंसर हो गया है। अरुण जेटली इसी वर्ष जनवरी महीने में सर्जरी के लिए यूएस (अमेरिका) गए थे। साल 2005 में अरुण जेटली हार्ट सर्जरी करा चुके हैं। इसके अलावा अरुण जेटली सितंबर साल 2014 में मधुमेह (डायबिटीज) को मैनेज के लिए गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी भी करा चुके हैं।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की दूसरी बार सरकार बनी। जब दोबारा मोदी सरकार के मंत्रिमंडल गठित रहा था उस समय अरुण जेटली ने एक पत्र लिखाकर पीएम मोदी से से मंत्रिमंडल में न शामिल करने का अनुरोध किया था। पत्र में अरुण जेटली ने लिखा था कि मुझे मंत्री बनाने पर विचार न करें।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story