Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे बोले- चीन के साथ भारत का रिश्ता वैसा ही होगा, जैसा हम चाहेंगे

पैंगोग त्सो में चीन के साथ तनाव खत्म होने के मामले पर सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने कहा कि ये बहुत अच्छा परिणाम है और दोनों देशों (भारत-चीन) के लिए जीत की स्थिति है। हमने अब तक जो हासिल किया है, वह बहुत अच्छा है।

सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे बोले- चीन के साथ भारत का रिश्ता वैसा ही होगा, जैसा हम चाहेंगे
X

सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे

सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने कहा है कि चीन के साथ भारत का रिश्ता वैसा ही होगा, जैसा हम चाहेंगे। सेना प्रमुख ने कहा कि हम एक पड़ोसी के तौर पर चाहेंगे कि बॉर्डर पर शांति और स्थिरता रहे और कोई नहीं चाहता कि सीमा पर किसी तरह की अस्थिरता रहे।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने आगे कहा कि मुझे लगता है कि ये पूर्ण रूप से सरकार की सोच है कि चीन के साथ हमारी रिश्ता उसी तरीके से विकसित होगा, जैसी हमारी इच्छा उसे विकसित करने की होगी। एक सरकार और एक देश के तौर पर हमने दिखा दिया है, जो भी समाधान हुए हैं उसमें हमारा राष्ट्रहित सर्वोपरि है।

पैंगोग त्सो में चीन के साथ तनाव खत्म होने के मामले पर सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने कहा कि ये बहुत अच्छा परिणाम है और दोनों देशों (भारत-चीन) के लिए जीत की स्थिति है। हमने अब तक जो हासिल किया है, वह बहुत अच्छा है।

हमारी कई बैठकें हुईं और इनमें हमारे एनएसए द्वारा दी गई सलाह भी बेहद काम आई। रणनीतिक मामलों और मामलों में उनकी अंतर्दृष्टि ने निश्चित रूप से हमारी प्रतिक्रिया का पीछा करने में हमारी मदद की। किसी भी समझौते को अंतिम रूप देने के लिए, दोनों पक्षों को यह महसूस करना चाहिए कि उन्होंने कुछ हासिल किया है।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि भारत-चीन एक स्थिर और क्रमबद्ध तरीके से लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के साथ गोगरा, हॉट स्प्रिंग्स और देपसांग में अन्य संघर्ष बिंदुओं के पारस्परिक रूप से स्वीकार्य संकल्प पर जोर देने के लिए सहमत हुए हैं। दोनों देशों के कोर कमांडर स्तर की बैठक के 10वें दौर के बारे में एक संयुक्त बयान में कहा गया है कि बैठक 20 फरवरी को चीन की तरफ मोल्दो/चुशुल सीमा आयोजित की गई थी।

Next Story