Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

देश के 80 करोड़ लोगों को पांच माह तक मुफ्त मिलेगा अनाज, ऐसे उठा सकते हैं लाभ

गृह मंत्रालय की संयुक्त सचिव पीएस श्रीवास्तव ने बताया कि लॉकडाउन बढ़ने पर भी लोगों को परेशानी नहीं होने दी जाएगी। 80 करोड़ लोगों को अगले पांच महीने तक मुफ्त अनाज दिया जाएगा। इसके लिए राज्य सरकारों को निर्देश दिया गया है।

मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर 6,656 किसानों ने किया पंजीकरण, आप भी ऐसे उठायें लाभ
X

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि देश में कोरोना से निपटने के लिए अब तक 602 कोरोना डेडिकेटेड अस्पताल बनाए जा चुके हैं। इसमें तीन लाख से ज्यादा बेड हैं। सभी अस्पतालों में आईसीयू और वेंटिलेटर की सुविधा है। वहीं गृह मंत्रालय की संयुक्त सचिव पीएस श्रीवास्तव ने बताया कि लॉकडाउन बढ़ने पर भी लोगों को परेशानी नहीं होने दी जाएगी। 80 करोड़ लोगों को अगले पांच महीने तक बिल्कुल मुफ्त अनाज दिया जाएगा। इसके लिए राज्य सरकारों को निर्देश दिया गया है।

बढ़ा रहे मेडिकल सुविधाएं

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि इंडियन कोस्टल नेटवर्क और ऑनलाइन फार्मा मेडिकल कंपनियों के साथ मिलकर देश के सभी राज्यों में मेडिकल उपकरण पहुंचाए जा रहे हैं। देश में तीन मई तक लॉकडाउन बढ़ा दिया है। ऐसे में 20 अप्रैल तक देश के सभी जिलों का मूल्यांकन होगा। देश में स्वास्थ्य सुविधाओं को लगातार बढ़ाया जा रहा है।

राज्यों को निर्देश जारी

गृह मंत्रालय की संयुक्त सचिव पीएस श्रीवास्तव ने बताया कि लॉकडाउन बढ़ने पर भी लोगों को परेशानी नहीं होने दी जाएगी। 80 करोड़ लोगों को अगले पांच महीने तक मुफ्त अनाज दिया जाएगा। इसके लिए राज्य सरकारों को निर्देश दिया गया है। 13 अप्रैल तक एफसीआई ने 22 लाख मिट्रिक टन अनाज राज्यों और केंद्र शासित राज्यों को दे दिया है। अगर किसी को भी कोई समस्या है तो वह गृह मंत्रालय के कंट्रोल रूम में संपर्क कर सकता है।

32 करोड़ लोगों को पैकेज

वित्त मंत्रालय के अधिकारी ने बताया कि 1.70 लाख करोड़ रुपये के प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज को काफी तेजी से बांटा गया। 13 अप्रैल तक देश के 32 करोड़ से ज्यादा गरीबों को कुल 29,352 करोड़ रुपये की वित्तीय मदद मिल चुकी है। 5.29 करोड़ लोगों को खाद्यान्न दिया गया है। 97.8 लाख लोगों को उज्जवला योजना के तहत गैस सिलेंडर उपलब्ध कराए गए हैं। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन यानी ईपीएफओ के 2.1 लाख सदस्यों को ईपीएफओ खाते से गैर-वापसी योग्य निकासी का लाभ मिल चुका है, जिसकी राशि 510 करोड़ रुपये है।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत अप्रैल में पहली किस्त के तौर पर योजना के 7.47 करोड़ लाभार्थी किसानों के बैंक खातों में 14,946 करोड़ रुपये भेजे जा चुके हैं। वहीं, प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत 19.86 करोड़ महिला खाताधारकों के खातों में 9,930 करोड़ रुपये हस्तांतरित किए जा चुके हैं। मंत्रालय ने कहा है कि वृद्धावस्था पेंशन, विधवा व दिव्यांग पेंशनधारी 2.82 करोड़ लोगों के खातों में 1400 करोड़ रुपये भेजे जा चुके हैं। इसके अलावा, भवन व निर्माण क्षेत्र के 2.17 करोड़ श्रमिकों को वित्तीय सहायता के तौर पर 3071 करोड़ रुपये दिए जा चुके हैं।

Next Story