Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

26/11 Mumbai Terror Attacks: जानें आखिर कितने सालों बाद पाकिस्तान ने मुंबई हमले पर किया था 'कबूल है', पढ़ें ये बैकग्राउंड स्टोरी

26/11 Mumbai Terror Attacks: देश में आतंकवाद फैलाने वालों को भारत अब बख्शने के मुड में नहीं है। चाहे वो कश्मीर का ईलाका हो या फिर मुंबई का। यदि कोई देश की शांति को भंग करने का काम करेगा, तो उसको या तो गोली मिलेगी या फिर सजा-ए-मौत।

26/11 Mumbai Terror Attacks: जानें आखिर कितने सालों बाद पाकिस्तान ने मुंबई हमले पर किया था कबूल, पढ़ें ये बैकग्राउंड स्टोरी
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

26/11 Mumbai Terror Attacks: देश में आतंकवाद फैलाने वालों को भारत अब बख्शने के मुड में नहीं है। चाहे वो कश्मीर का इलाका हो या फिर मुंबई का। यदि कोई देश की शांति को भंग करने का काम करेगा तो उसको या तो गोली मिलेगी या फिर सजा-ए-मौत। मुंबई में हुए आतंकी हमले की शाजिश रचने वाले आज भी पाकिस्तान में खुले आम घुम रहे हैं। तक थक हार कर पाकिस्तान ने आखिरकार मान लिया है कि मुंबई आतंकी हमले में उसकी जमीन का इस्तेमाल हुआ था और वहीं से ही आए आतंकियों ने मुंबई में तबाही मचाई थी। पाकिस्तान की ओर से एक लिस्ट जारी की गई है, जिसमें एक दर्जन से अधिक ऐसे आतंकियों के नाम थे, जिनका सीधा संबंध 2008 में मुंबई में हुए आतंकी हमले में से रहा।

पाकिस्तान की फेडरल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी ने देश के मोस्ट वांटेड आतंकियों की सूची जारी की। इन्हीं में ही करीब 19 नाम ऐसे हैं, जिनका संबंध मुंबई आतंकी हमले से बताया गया है। इस सूची में लश्कर-ए-तैयबा के कई आतंकियों का नाम दिया गया। जिसमें इफ्तिकार अली, मोहम्मद अमजद खान, मोहम्मद उस्मान, अब्दुल रहमान समेत अन्य आतंकियों के नाम थे। इसी के साथ पाकिस्तान ने कबूल कर लिया है कि मुंबई आतंकी हमले की प्लानिंग और फंडिंग पाकिस्तान से ही हुई थी।

पाकिस्तान द्वारा जारी इस लिस्ट में उन लोगों के नाम भी दिए गए, जिन्होंने आतंकियों के लिए मोटर बोट, लाइफ जैकेट समेत अन्य सामान खरीदा था और करांची से लेकर मुंबई तक आने का इंतजाम किया था। आपको बता दें कि 26 नवंबर 2008 को समुद्री रास्ते से आए कुछ आतंकियों ने मुंबई में हमला किया। इस दौरान रेलवे स्टेशन, ताज होटल समेत कुछ अन्य जगहों को आतंकियों ने अपना निशाना बनाया था। इस आतंकी हमले में 160 से अधिक लोगों की जान गई थी।

तीन दिनों तक चला था हमला

ये पूरा आतंकी हमला करीब तीन दिन तक चला था। जिसमें एक आतंकी जिंदा पकड़ा गया था। जिंदा आतंकी अजमल कसाब को बाद में फांसी दी गई। भारत की ओर से तब से लेकर अबतक कई मौकों पर मुंबई हमले के सबूत दिए जा चुके हैं, जिसमें पाकिस्तान का हाथ साफ दिखाई पड़ता है। लेकिन पाकिस्तान इससे इंकार करता रहा है, लेकिन अब उसने खुद ही अपना जुर्म कबूल कर लिया है। सिर्फ मुंबई हमला ही नहीं बल्कि उरी, पुलवामा, पठानकोट समेत अन्य कई जगहों पर हुए आतंकी हमले को लेकर भारत सबूत सौंप चुका है लेकिन पाकिस्तान अपने गुनाहों को मानने से इनकार करता रहा है।

आतंकवादी पूरी तरह से ट्रेनिंग होने के बाद आए थे मुंबई

पाकिस्‍तान में बैठे आतंकियों के आकाओं ने इस हमले को अंजाम देने के लिए पहले इन सभी आतंकियों को पूरी ट्रेनिंग दी थी। इस हमले की साजिश रचने वाले आतंकी आज भी पाकिस्‍तान में खुले घूम रहे हैं। इनका सबसे बड़ा चेहरा आतंकी हाफिज सईद है, जिसे अब 10 साल की सजा हो गई है। लाहौर की लखपत जेल में बंद है।

Next Story