Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Coronavirus Lockdown: 21 दिनों का लॉकडाउन देश की अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा भारी, होगा 9.12 लाख करोड़ रुपये का नुकसान

Coronavirus Lockdown: कोरोना वायरस के कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे देश में 21 दिनों के लिए लॉकडाउन किया है। लेकिन इन 21 दिनों में भारत की अर्थव्यवस्था को 9.12 लाख करोड़ का नुकसान हो सकता है।

Coronavirus Lockdown: 21 दिनों का लॉकडाउन देश की अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा भारी, होगा 9.12 लाख करोड़ रुपये का नुकसान
X
Coronavirus Lockdown: 21 दिनों का लॉकडाउन देश की अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा भारी, होगा 9.12 लाख करोड़ रुपये का नुकसान

Coronavirus Lockdown: कोरोना वायरस के कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे देश में लॉकडाउन का ऐलान किया है। जिससे भारत को करीब 9.12 लाख करोड़ रुपये के नुकसान होने का अनुमान लगाया जा रहा है।

बार्कलेज बैंक ने तैयार की है रिपोर्ट

बार्कलेज बैंक के द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट में कहा गया है कि 9.12 लाख करोड़ के नुकसान का अर्थ है कि देश की जीडीपी 4 प्रतिशत गिरेगी। रिपोर्ट में कहा गया है कि इसके अनुसार देखा जाए तो इस साल देश की जीडीपी में 2 प्रतिशत की कमी आने का अनुमान लगाया जा सकता है।

2021-22 में जीडीपी बढ़ने का अनुमान

बार्कलेज बैंक के द्वारा तैयार की गई इस रिपोर्ट को 28 दिनों की देश बंदी और 8 सप्ताह की आंशिक बंदी के आधार पर बनाया गया है। बार्कलेज इंडिया के चीफ इकोनॉमिस्ट राहुल बजोरिया ने कहा है कि 2020 में जो 4.5 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान लगाया गया था। उसे अब घटाकर 2.5 प्रतिशत कर दिया गया है।

वहीं अगर 2020-21 के वित्तीय वर्ष की बात करें तो उसे भी 5.2 प्रतिशत के अनुमान से घटाकर 3.5 प्रतिशत कर दिया गया है। लेकिन उन्होंने कहा कि 2021-22 में जीडीपी के बढ़ने का अनुमान है। वित्तीय वर्ष 2021-22 में जीडीपी ग्रोथ रेट बढ़कर 8 प्रतिशत पर जा सकता है।

वित्तीय घाटा 5 प्रतिशत होने का अनुमान

बार्कलेज बैंक की रिपोर्ट के अनुसार आरबीआई अप्रैल की मौद्रित नीति समीक्षा में 65 बेसिस पॉइंट की कटौती कर सकता है। लेकिन जून-अगस्त में 100 बेसिस पॉइंट की कमी होने का अनुमान है।

वहीं रिपोर्ट में वित्तीय घाटे का भी जिक्र किया गया है। जिसमें कहा गया है कि जो वित्तीय घाटा 3.5 प्रतिशत के होने का अनुमान था। वो अब बढ़कर 5 प्रतिशत हो सकता है। जिसके बाद सरकार को आरबीआई से कर्ज की जरूरत पड़ सकती है। लेकिन फिलहाल इस बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता।

Next Story