Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

PM के सामने JK के 14 नेताओं ने रखी अपनी-अपनी बात, मोदी क्या बोले, जानें बैठक से जुड़ी बड़ी बातें

बैठक के बाद पीएम मोदी ने कहा कि 'दिल की दूर' और 'दिल्ली की दूर' नहीं होनी चाहिए। कश्मीर के विकास को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने आवास पर जम्मू-कश्मीर के नेताओं के साथ सर्वदलीय बैठक की।

PM के सामने JK के 14 नेताओं ने रखी अपनी-अपनी बात, मोदी क्या बोले, जानें बैठक से जुड़ी बड़ी बातें
X

जम्मू कश्मीर के विकास को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने आवास पर जम्मू-कश्मीर के नेताओं के साथ सर्वदलीय बैठक की। करीब साढ़े 3 घंटे तक मंथन चला। इस सर्वदलीय बैठक में पीडीपी, एनसी, कांग्रेस समेत 8 राजनीतिक दलों के 14 नेता शामिल हुए। जिन्होंने पीएम के सामने अपने सबसे पहली और जरूरी मांग पूर्ण राज्य का दर्जा बताई।

बैठक के बाद पीएम मोदी ने कहा कि 'दिल की दूर' और 'दिल्ली की दूर' नहीं होनी चाहिए। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि हमारे लोकतंत्र की सबसे बड़ी ताकत एक जगह बैठने और विचारों का आदान-प्रदान करने की क्षमता है। मैंने जम्मू-कश्मीर के नेताओं से कहा कि लोगों को, खासकर युवाओं को जम्मू-कश्मीर को राजनीतिक नेतृत्व देना है और यह सुनिश्चित करना है कि उनकी आकांक्षाएं पूरी हों।

पीएम मोदी के साथ हुई बैठक को लेकर सभी नेताओं ने मीडिया से बातचीत की और कई ने ट्वीट कर अपने बात को रखा। सर्वदलीय बैठक के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम गुलाम नबी आजाद ने कहा कि हमने सर्वदलीय बैठक में 5 मुद्दे उठाए।

1) राज्य का दर्जा बहाल करना

2) विधानसभा चुनाव हो

3) जम्मू-कश्मीर के लोगों के भूमि अधिकारों का संरक्षण मिले

4) पंडितों की माननीय और सम्मानजनक वापसी हो

5) राजनीतिक बंदियों की तत्काल रिहाई हो

वहीं केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने कहा कि परिसीमन की कवायद पूरी किए बिना चुनाव नहीं हो सकते। जो महामारी के कारण देरी से हुआ। नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने कहा कि पीएम मोदी को बताया गया था कि केंद्र सरकार ने 5 अगस्त 2019 को जम्मू-कश्मीर के साथ जो किया, वह विश्वास का उल्लंघन था। जो हुआ था हम उसके साथ खड़े नहीं हैं। हम इसे स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं। लेकिन हम कानून अपने हाथ में नहीं लेंगे। हम इसे कोर्ट में लड़ेंगे। हमने पीएम से भी कहा था। कि राज्य और केंद्र के बीच विश्वास भंग हुआ है। इसे बहाल करना केंद्र का कर्तव्य है।

इसके अलावा पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के नेता सज्जाद लोन ने कहा कि बैठक सौहार्दपूर्ण रही। उम्मीद है कि जम्मू-कश्मीर के लोगों के लिए कुछ अच्छा होगा। जम्मू-कश्मीर अपनी पार्टी के अल्ताफ बुखारी ने कहा कि पीएम मोदी ने सभी को सुना और सभी को परिसीमन प्रक्रिया में भाग लेने के लिए कहा। हमें आश्वासन दिया गया है कि यह चुनाव का रोडमैप है। बैठक के समापन के तुरंत बाद भाजपा नेता राम माधव ने ट्वीट कर लिखा कि यह तथ्य कि बैठक तीन घंटे से अधिक चली, अपने आप में बैठक की सफलता का संकेत है।

इस बैठक में पीएम मोदी और शाह के अलावा राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह, प्रधान मंत्री के प्रधान सचिव पी के मिश्रा और केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला भी शामिल हुए। बैठक में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती भी मौजूद रहीं। इसके अलावा चार पूर्व उपमुख्यमंत्री कांग्रेस के तारा चंद, पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के नेता मुजफ्फर हुसैन बेग और भाजपा के निर्मल सिंह और कविंदर गुप्ता भी मौजूद रहे।

Next Story