Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

12th Board Exam 2021: 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को लेकर शिक्षा मंत्री ने दिए बड़े संकेत, सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

12वीं के बोर्ड एग्जाम को लेकर केंद्र सरकार, राज्य सरकार और सुप्रीम कोर्ट तीनों जगहों पर चर्चाएं चल रही हैं। इसी बीच केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को लेकर एक बड़ा संकेत दिया है।

12th Board Exam 2021: 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को लेकर शिक्षा मंत्री ने दिए बड़े संकेत, सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई
X

कोरोना महामारी के बीच सीबीएसई 12वीं क्लास के बोर्ड एग्जाम होंगे या नहीं होंगे। इसको लेकर सस्पेंस बरकरार है। वहीं सीबीएसई पहले ही दसवीं क्लास के बोर्ड एग्जाम को रद्द कर चुके हैं और अभी 12वीं के बोर्ड एग्जाम को लेकर केंद्र सरकार, राज्य सरकार और सुप्रीम कोर्ट तीनों जगहों पर चर्चाएं चल रही हैं। इसी बीच केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को लेकर एक बड़ा संकेत दिया है।

जुलाई में हो सकती है 12वीं की परीक्षा

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, जुलाई महीने में 12वीं क्लास के बोर्ड एग्जाम हो सकते हैं। कोरोना प्रोटोकॉल के तहत बच्चों को एग्जाम देने हो सकते हैं। सोशल डिस्टेंसिंग के साथ एग्जाम को लिमिटेड फॉर्मेट में करवाया जा सकता है। एग्जाम के समय अवधि 3 घंटे से कम रखी जाएगी।

शिक्षा मंत्री ने दिया ये संकेत

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने ट्वीट कर जानकारी देते हुए 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को लेकर संकेत दिया है। उन्होंने कहा कि महामारी के बीच बोर्ड एग्जाम की परीक्षाएं करवाना एक बड़ी चुनौती है। अगर बोर्ड परीक्षाओं की बात की जाए, तो वह हर छात्र के करियर ग्राफ और जीवन का रोडमैप है। 12वीं क्लास एक ऐसा मोड है, जहां पर छात्र के जीवन के आगे बढ़ने की एक दिशा तय होती है।

राज्यों ने भी जताई सहमति

जानकारी के लिए बता दें कि बीती 21 मई को केंद्रीय शिक्षा मंत्री के साथ अन्य राज्यों के शिक्षा मंत्री ने भी अहम बैठक की थी और इसमें कई राज्यों ने बोर्ड परीक्षा करवाने पर सहमति जताई थी। लेकिन कुछ राज्य राजी नहीं हुए थे। इसमें दिल्ली सरकार भी थी। दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा था कि 12वीं के बोर्ड एग्जाम को रद्द किया जाए।

वहीं दूसरी तरफ बीते दिन सुप्रीम कोर्ट ने 12वीं की बोर्ड एग्जाम को रद्द करने की मांग वाली याचिका को खारिज कर दिया और उसके बाद अब 31 मई सोमवार को सुनवाई करने की तारीख दी है। जबकि जे ई ई और नीट जैसे कंपीटीटिव एग्जाम भी करवाए गए। जिनमें देशभर से 21 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स शामिल हुए।

Next Story