Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अयोध्या में दीपोत्सव कार्यक्रम में सरयू घाट पर जलाए गए 12 लाख दीये, बना वर्ल्ड रिकॉर्ड

यूपी के अयोध्या में भव्य दीपोत्सव कार्यक्रम हुआ और इस दौरान पूरी अयोध्या रोशनी से जगमगा उठी। आज अयोध्या में 12 लाख दीये जलाए गए जो एक वर्ल्ड रिकॉर्ड है। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत कई केंद्रीय मंत्री अयोध्या में मौजूद रहे।

अयोध्या में दीपोत्सव कार्यक्रम में सरयू घाट पर जलाए गए 12 लाख दीये, बना वर्ल्ड रिकॉर्ड
X

अयोध्या में दीपोत्सव कार्यक्रम में सरयू घाट पर जलाए गए 12 लाख दीये, बना वर्ल्ड रिकॉर्ड

यूपी के अयोध्या में भव्य दीपोत्सव कार्यक्रम हुआ और इस दौरान पूरी अयोध्या रोशनी से जगमगा उठी। आज अयोध्या में 12 लाख दीये जलाए गए जो एक वर्ल्ड रिकॉर्ड है। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत कई केंद्रीय मंत्री अयोध्या में मौजूद रहे। इसके पहले नगर के साकेत पीजी कॉलेज से राम राज्याभिषेक शोभायात्रा जय श्रीराम के उद्घोष और शंखनाद के साथ रवाना हुई। जिसमें भारत की लोक संस्कृति के अलग-अलग रंग देखने को मिले। शोभयात्रा को उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यहां एक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी ने रामभक्तों की आस्था को नमन किया और पिछली सरकारों पर तुष्टिकरण की राजनीति का आरोप लगाते हुए उन्हें निशाने पर लिया।

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में बुधवार को भव्य दीपोत्सव कार्यक्रम का आयोजन हुआ और राम की नगरी को 12 लाख दीयों से सजाया गया। 32 टीमों ने मिलकर 12 लाख दीये जलाए। ये एक वर्ल्ड रिकॉर्ड है। 12 लाख दीयों को जलाने के लिए 36 हजार लीटर सरसों के तेल का इस्तेमाल हुआ। राम की पैड़ी पर 9 लाख और अयोध्या के बाकी हिस्सों में 3 लाख दीपक जलाए गए। जबकि रामजन्म भूमि परिसर में 51 हजार दीये जलाए गए। दीयों की गिनती के लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड की टीम भी पहुंची थी।

अयोध्या में 12 लाख दीये जलाने में जुटी 32 टीमें। राम की पैड़ी में जलाए जा रहे हैं 9 लाख दीये। कुल 12 लाख दीये जलाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड। इसमें 36 हजार लीटर सरसों का तेल इस्तेमाल हो रहा है। रामजन्म भूमि परिसर में 51 हजार दीये। सीएम योगी ने कहा कि पूरी दुनिया कहती थी कि यह काम असंभव है लेकिन सभी अवरोधों को खत्म करते हुए राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण का कार्य बिना रुकावट चल रहा है। यह भारत के लोकतंत्र की ताकत है, यहां के जनमानस की आस्था की शक्ति है। उन्होंने कहा कि असंभव कार्य संभव हुआ है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि दीपोत्सव और श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर का निर्माण मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। मेरा सौभाग्य है कि मैं इनमें सक्रिय सहयोग दे पा रहा हूं। योगी ने कहा कि प्रभु स्वयं तय करते हैं कि किस भूमिका में किसे काम करना है।

Next Story