Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

चीन को पछाड़ देगा भारत, 7.8 फीसदी रहेगी वृद्धी दर

एडीबी का अनुमान 2015-2016 में 7.8 फीसदी रहेगी वृद्धी दर

चीन को पछाड़ देगा भारत, 7.8 फीसदी रहेगी वृद्धी दर
नई दिल्ली. एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने मंगलवार को अनुमान जताया कि भारत की वृद्धि दर चीन को पार कर अगले वित्त वर्ष के दौरान बढ़कर 7.8 प्रतिशत हो जाएगी और 2016-17 में यह 8.2 प्रतिशत हो जाएगी।
एशियाई विकास दृष्टिकोण (एडीओ) - में कहा गया कि सरकार द्वारा ढांचागत सुधार के एजेंडे और बेहतर वाह्य मांग के बीच भारत की वृद्धि और निवेशकों को भरोसा बढ़ेगा। एडीबी का अनुमान है कि भारत की वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष में 7.4 प्रतिशत जबकि 2015-16 में बढ़ककर 7.8 प्रतिशत और 2016-17 में 8.2 प्रतिशत हो जाएगी। चीन की आर्थिक वृद्धि 7.4 फीसदी रहेगी। चीन के संबंध में एडीबी ने अनुमान जताया है कि चालू वित्त वर्ष में उसकी आर्थिक वृद्धि चालू वित्त वर्ष में 7.4 प्रतिशत रहेगी जो अगले वित्त वर्ष में 7.2 प्रतिशत और 2016-17 में सात प्रतिशत रह जाएगी। एडीबी के मुख्य अर्थशास्त्री शांग जिन वेइ ने कहा ‘उम्मीद है कि भारत अगले कुछ वर्षों में चीन से अधिक तेजी से वृद्धि दर्ज करेगा। सरकार का निवेश अनुकूल रुख, राजकोषीय और चालू खाते के घाटे में सुधार और ढांचागत दिक्कतों को दूर करने के लिए की गई पहलों से कारोबारी माहौल सुधार में मदद मिली और भारत घरेलू और विदेशी दोनों किस्म के निवेशकों के लिए आकर्षक बन गया।’
घरेलू विनिर्माण को प्रोत्साहित करने के लिए भारत के मेक इन इंडिया अभियान की प्रशंसा करते हुए शांग ने कहा ‘भारत सरकार का कार्यक्रम चीन के मुकाबले और अच्छा है।’ उन्होंने कहा कि वाह्य क्षेत्र के लिहाज से भारत सरकार और आरबीआई मुद्राभंडार बढ़ाने और जोखिम निगरानी के लिए नीतियां बनाने की कोशिश कर रही है। शांग ने कहा ‘‘भारत आज पहले के मुकाबले ज्यादा मजबूत स्थिति में है।एडीबी ने कहा कि सरकार की बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को पर्यावरण संबंधी मंजूरी में तेजी, आधारभूत ढांचे तथा औद्योगिक गलियारों के लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया में सुगमता, निजी क्षेत्र के लिए कोयला ब्लाक की नीलामी की अनुमति और लघु एवं मध्यम आकार के उद्योगों पर श्रम कानून के अनुपालन का बोझ कम करने की पहलों से वृद्धि को प्रोत्साहित करने में मदद मिलेगी।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, अभी भी कई चुनौतियां -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top