Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भारत को महाशक्ति बनाने की कवायद तेज, परिंदा भी पर न मार सके

आतंकी हमले को रोकने के लिए जल्द ही इंडियन नेवी और इंडियन कोस्ट गार्ड में 140 वॉरशिप को शामिल होगा।

भारत को महाशक्ति बनाने की कवायद तेज, परिंदा भी पर न मार सके
X
मुंबई. रक्षा मंत्रालय भारत को समुद्र के अंदर महाशक्ति बनाने के लिए पूरी तरह जुट गया है। समुद्र के रास्ते भारत में किसी भी तरह के आतंकी हमले को रोकने के लिए जल्द ही इंडियन नेवी और इंडियन कोस्ट गार्ड में 140 वॉरशिप को शामिल करने का निर्णय लिया गया है।
बता दें कि भारत कई बार आसानी से आतंकियों के निशाने पर आ चुका है, चाहे वह 26/11 हो या मुंबई की लोकल ट्रेनों में एक के बाद एक हुए सीरियल ब्लास्ट। ऐसी घटनाएं भविष्य में न हों, इसके लिए देश की सभी सुरक्षा एजेंसियां लगी हैं।

140 नए वॉरशिप शामिल करने का निर्णय
इसके अलावा समुद्र के मार्ग को पूरी तरह घेरने के लिए भारतीय नौसेना और इंडियन कोस्ट गार्ड में 140 नए वॉरशिप शामिल करने का निर्णय लिया गया है। इसमें इंडियन नेवी के खाते में 60 वॉरशिप, जबकि इंडियन कोस्ट गार्ड में 80 वॉरशिप आएंगी। सूत्रों की मानें तो भारतीय नौसेना के पास फिलहाल 140 वॉरशिप हैं, जबकि इंडियन कोस्ट गार्ड के पास 120।
परिंदा भी पर न मार सके
बता दें कि 26/11 का हमला जिसमें आतंकियों ने समुद्री रास्ते से शहर में घुसपैठ की थी। इसके बाद से इंडियन नेवी समुद्र पर इस तरह नजर गड़ाए है कि परिंदा भी पर न मार सके। इसी दिशा में इंडियन नेवी समुद्र में भारत को महाशक्तिशाली बनाने के लिए एक के बाद एक बड़े कदम उठा रही है। गौरतलब है कि 21 नवंबर को भारत का सबसे विशाल युद्धपोत आईएनएस चेन्नै इंडियन नेवी में शामिल किया गया था।
जॉइंट ऑपरेशन सेंटर की शुरुआत
एनबीटी की खबर के मुताबिक, इसके पहले आइएनएस कोलकाता युद्धपोत और आइएनएस कोच्चि को इंडियन नेवी में शामिल किया गया था। सूत्रों की मानें तो अब इंडियन नेवी और कोस्ट गार्ड जानकारियं साझा करने के लिए कई नई तकनीकों का उपयोग कर रहे हैं। इसके अलावा जानकारी साझा करने के लिए जॉइंट ऑपरेशन सेंटर की भी शुरुआत की गई है। इसमें समुद्र में उठने वाली छोटी से छोटी हलचल की खबर पल भर में सभी सुरक्षा एजेंसियों को पहुंच जाएगी।
मछुआरों के लिए विशेष कलर कोड
मछुआरों के लिए भी विशेष कलर और कोड निश्चित किए गए हैं। साथ ही उन्हें समुद्र में कुछ अप्रिय घटना की जानकारी मिली तो सीधे इंडियन कोस्ट गर्ड के अधिकारीयों को तलब करने की हिदायद दी गई है। इसके अलावा मछुआरों को विशेष अलार्म की भी सुविधा दिए जाने की जानकारी इंडियन कोस्ट गार्ड के वरिष्ठ अधिकारी ने दी।
प्रीनोटिफिकेशन अलार्म सिस्टम
समुद्र में सभी नौकाओं के लिए प्रीनोटिफिकेशन अलार्म सिस्टम की हाल ही में शुरुआत की गई है। इसमें भारत के समुद्री इलाकों में से गुजरने वाली सभी नौकाओं की जानकारी मौजूद है। साथ ही यदि कोई अन्य नौका भारत के समुद्री इलाकों में प्रवेश करती है तो इसकी सीधी जानकारी इंडियन नेवी को मिलेगी और आगे का ऐक्शन लिया जा सकता है।

42 युद्धपोतों पर काम किया जा रहा
ऑल इंडिया नेवी के प्रवक्ता कैप्टन डीके शर्मा ने कहा, '15 साल के फ्यूचर प्रॉजेक्ट के तहत 42 युद्धपोतों पर काम किया जा रहा है। इसमें से 36 युद्ध पोत हैं, जबकि 6 पनडुब्बियां। इनमें से कुछ युद्धपोतों पर मुंबई के मझगांव डॉक यार्ड में काम भी शुरू कर दिया गया है।'
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story