Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

भारत-रूस के बीच हुए 16 करार, लेकिन ये हैं 5 बड़े समझौते

इस बार ब्रिक्स सम्मेलन की मेजबानी भारत कर रहा है।

भारत-रूस के बीच हुए 16 करार, लेकिन ये हैं 5 बड़े समझौते
गोवा. गोवा में शनिवार से शुरू हुए ब्रिक्स समिट में सभी देशों के प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति पहुंच चुके हैं। तो वही सबसे पहले भारत और रूस के बीच चली आ रही सालों की दोस्ती के बीच आज कई अहम द्विपक्षीय समझौते हुए। बता दें कि डिफेंस, एनर्जी, इन्फ्रास्ट्रक्चर, स्पेस, साइंस और रिसर्च से जुड़े विभिन्न सेक्टरों में कई अहम समझौते हुए हैं। इस बार ब्रिक्स सम्मेलन की मेजबानी भारत कर रहा है। ऐसे में इस सम्मेलन का आयोजन देश के सबसे पसंदीदा पर्यटन स्थल गोवा में हो रहा है। जहां आज भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन दोस्ती की नई इबारत लिख दी है।
भारत और रूस के बीच आपसी सहयोग बढाने की दिशा में कई ऐसे कदम उठाए जाने वाले हैं, जो आने वाले वक्त में देश के लिए गेमचेंजर साबित हो सकते हैं। पीएम मोदी जब गोवा में रूस के राष्ट्रपति पुतिन की मेजबानी कर रहे होंगे, उस वक्त कई नए समझौतों पर हस्ताक्षर हो सकते हैं। चलिए ऐसे 5 समझौतों पर नज़र डालते हैं जिसपर सहमति बनने से भारत को बड़ी सफलता मिल सकती है।
दोनों देशों के बीच ये हुए हैं आपसी समझौते
ऊर्जा, बिजली, जहाज़ निर्माण, स्पेस और स्मार्ट सिटी के लिए दोनों देशों के बीच अहम समझौते हुए। दोनों दशों के बीच 'आतंकवाद' बर्दाश्त नहीं करने पर भी सहमति बनी। रूस के साथ अहम क़रार में कामोफ़ हेलिकॉप्टर 200 एयर डिफेंस, कुडनकुलम प्लांट के लिए समझौते पर मुहर लगी। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पुतिन और हमारे बीच आतंकवाद और इसका समर्थन करने वालों को बर्दाश्त नहीं करने पर सहमति बनी।
आंध्र प्रदेश में लॉजिस्टिक सिस्टम, स्मार्टसिटी मॉनिटरिंग सिस्टम विकसित करने पर समझौता। आंध्र प्रदेश में शिप बिल्डिंग के आलावा टेक्नॉलजी के जॉइंट डेवलपमेंट और ट्रांसफर पर रजामंदी। गैस पाइपलाइन बनाने पर जाइंट रिसर्च के लिए एमओयू पर साइन हुए। दोनों देशों के बीच इनवेस्टमेंट फंड को बनाने पर सहमति। ट्रेनों की स्पीड बढ़ाने के लिए इंडियन और रशियन रेलवे के बीच करार। कामोव हेलिकॉप्टरों के भारत में निर्माण के लिए समझौता। रूस और भारतीय अंतरिक्ष संगठनों के बीच सहयोग पर समझौता। भारतीय और रूसी विदेश मंत्रालय के बीच सहयोग से जुड़ा करार।
ये है वो पांच सबसे बड़े और अहम समझौते
1- एस-400 ट्राइअम्फ: मिसाइल डिफेंस सिस्टम
2- ब्रह्मोस का मिनिएचर वर्जन: एलओसी की सुरक्षा होगी मजबूत
3- कामोव हेलिकॉप्टर: पुराने चेतक और चीता की लेंगे जगह
4- कूटनीतिक रिश्तों की बेहतरी पर भी जोर
5- परमाणु क्षेत्र में सहयोग

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top