Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

जापान से US-2i एयरक्राफ्ट खरीदेगा भारत, चीन हुआ परेशान

US-2i एयरक्राफ्ट का ज्यादातर इस्तेमाल सर्च और रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए किया जाता है

जापान से US-2i एयरक्राफ्ट खरीदेगा भारत, चीन हुआ परेशान
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अगले सप्ताह जापान के दौरे पर जा रहे हैं। इस दौरे के दौरान माना जा रहा है कि दोनों देशों के बीच करीब 10 हजार करोड़ रुपए का रक्षा सौदे पर हस्ताक्षर हो सकते हैं। भारत जापान से एक दर्जन US-2i ऐम्फिबीअस (जमीन और पानी पर चलने वाला) एयरक्राफ्ट खरीद सकता है।
आपको बता दें कि प्रधानमंत्री 11-12 नवंबर को जापान के दौरे पर होंगे। इस दौरे के दौरान सबकी नजरें इस डील पर होगी। इस डील पर सबसे करीबी नजर होगी चीन की। अगर दोनों देशों के बीच यह डील होती है तो चीन को साफ संदेश जाएगा कि भारत-जापान रक्षा क्षेत्र में एक-दूसरे के साथ हैं।
आपको बता दें कि US-2i एयरक्राफ्ट का ज्यादातर इस्तेमाल सर्च और रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए किया जाएगा। इमरजेंसी की स्थिति में 30 सैनिकों को एक साथ US-2i के जरिए भेजा जा सकता है।
एयरक्राफ्ट US-2i के खरीद की डील 2013 में शुरू हुई थी, लेकिन विमान की कीमतों को लेकर अभी तक इस सौदे को अंतिम रूप नहीं दिया ज सका। हालांकि जापान ने विमान की कीमत कम करने के संकेत दिए हैं।
प्रधानमंत्री की नवंबर में प्रस्तावित जापान यात्रा के दौरान बेहद अहम सिविल न्यूक्लियर डील पर तो मुहर लगने की संभावना है ही, साथ ही सूत्र बता रहे हैं कि भारत की US-2i एयरक्राफ्ट खरीदने की मंशा भी वार्ता का अहम हिस्सा होगी। सोमवार को रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर की अध्यक्षता में होने वाली डिफेंस अक्वीज़िशन्स काउंसिल (DAC) की मीटिंग में US-2i प्रोजेक्ट पर चर्चा की जाएगी जिसके तहत 6 ऐम्फिबीअस प्लेन नेवी के लिए और 6 कोस्ट गार्ड के लिए खरीदे जाने हैं। एक सूत्र ने बताया, 'डीएसी 12 एयरक्राफ्ट खरीदने संबंधी इस द्विपक्षीय एमओयू पर साइन किए जाने के मसले पर विचार करेगा।'
प्रस्तावित US-2i डील के पीछे भारत की मंशा एशिया-प्रशांत महासागर में चीन के बढ़ती दखलअंदाजी के खिलाफ कड़ा संदेश देने की है। भारत और जापान, दोनों चीन की आक्रामक रणनीति को लेकर चौकन्ने हैं। भारत ने अभी तक अमेरिका द्वारा प्रस्तावित चतुष्कोणीय सुरक्षा वार्ता में शामिल होने की बात से इनकार किया है जिसमें जापान और ऑस्ट्रेलिया भी शामिल हैं, पर 2014 से भारत और अमेरिका के बीच सालाना मालाबार संयुक्तम समुद्री युद्धाभ्याओस में जापान के नियमित रूप से शामिल होने से चीन चिढ़ा हुआ है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top