Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

इराक में लापता 39 भारतीय के परिजनों का हुआ डीएनए टेस्ट, लिए गए सैंपल

सैंपल की रिपोर्ट केंद्र सरकार के जरिए इराक भेजी जाएगी।

इराक में लापता 39 भारतीय के परिजनों का हुआ डीएनए टेस्ट, लिए गए सैंपल

इराक में लापता 39 भारतीयों के मामले में परिजनों का डीएनए परिक्षण कराकर सैंपल जुटाए गए हैं। बताया जा रहा है कि विदेश मंत्रालय की तरफ से पंजाब को मिली एक चिट्ठी के बाद डीएनए सैंपल जुटाए गए हैं। जिससे लापता नागरिकों को इराकी सेना को ढूंढने में आसानी होगी और जल्दी ही पता लगा लिया जाएगा।

मिली जानकारी के मुताबिक सैंपल जुटाने का काम अमृतसर और गुरदासपुर जिलों के सरकारी अस्पताल में हुआ। हालांकि इस बारे में आधिकारिक तौर पर कुछ भी नहीं बताया जा रहा है लेकिन माना जा रहा है कि सैंपल जुटाने की प्रक्रिया केंद्रीय विदेश मंत्रालय के निर्देश पर हुई है।
शुक्रवार रात को पीड़ित परिवारों को पुलिस की तरफ से दी गई सूचना के बाद से सैंपल जुटाने का काम शुरू हुआ। परिजनों से अस्पताल पहुंचकर सैंपल देने को कहा गया। इस पर अमृतसर जिले के आठ और गुरदासपुर जिले के तीन परिवार के लोग शनिवार सुबह अस्पताल पहुंचे। इधर, बटाला में भी तीन परिवारों के सैंपल जुटाए गए।
सैंपल की रिपोर्ट केंद्र सरकार के जरिए इराक भेजी जाएगी। इराक में फंसे भारतीय युवकों की रिहाई के लिए लड़ाई लड़ रही एक नौजवान की बहन गुरपिंदर कौर ने बताया कि वह इस बारे में विदेश मंत्रालय के अधिकारियों से बातचीत करने की कोशिश कर रही है। लेकिन कहीं से कोई जानकारी नहीं मिल रही है।
गुरपिंदर ने बताया कि उन्हें केवल इतना पता है कि डीएनए सैंपल सोमवार तक दिल्ली भेजे जाएंगे। उसके बाद विदेश मंत्रालय इस मामले में आगे की कार्रवाई करेगा।
तीन साल पहले इराक के मोसुल इलाके में एक परियोजना के तहत कार्य कर रहे 39 भारतीय नागरिकों को आईएसआईएस के चरपंथियों ने अगवा कर लिया गय था। जिनका पता लगाने के लिए भारत सरकार ने हर संभव कोशिश की लेकिन कोई कामयाबी हाथ नहीं लगी। अब जांच अधिकारियों ने उनके रिश्तेदारों का डीएनए परिक्षण कराने को कहा है जिससे उनका पता लगा कर देश वापस लाया जा सके।
बता दें कि इस साल जुलाई में इराकी विदेश मंत्री इब्राहिम अल-एशैकर अल जाफरी ने कहा था कि उनकी सरकार के पास लापता लोगों पर कोई ठोस सबूत नहीं है। उनकी टिप्पणी के कुछ दिन बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा था कि वे मर चुके हैं या नहीं। इसकी कोई स्पष्ट जानकारी नहीं मिल पाई है।
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इराक से लापता भारतीयों को ढूंढने में मदद के लिए इराक से पूछा था कि इराकी बलों ने आईएसआईएस से मोसुल को अपने कब्जा में कर लिया है।
39 व्यक्तियों जिनमें से ज्यादातर पंजाब के नागरिक हैं। जो इराक में मोसुल के पास परियोजनाओं पर काम कर रहे थे और उन्हें निकासी के दौरान अपहरण कर लिया गया था। जिनका अभी तक कोई सुराख नहीं मिला हैं।
Share it
Top