Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

''स्वतंत्रता, समृद्धि और शांति की दिशा में ''सुरक्षा कवच'' बन सकते हैं भारत और अमेरिका'': डोनाल्ड ट्रंप

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि स्वतंत्रता, समृद्धि और शांति की दिशा में भारत के साथ अमेरिका का संबंध एक ''सुरक्षा कवच'' की तरह काम कर सकता है।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि स्वतंत्रता, समृद्धि और शांति की दिशा में भारत के साथ अमेरिका का संबंध एक 'सुरक्षा कवच' की तरह काम कर सकता है। राष्ट्रपति ट्रंप ने व्हाइट में जाने माने भारतीय-अमेरिकियों के साथ दिवाली मनाने के दौरान ये बातें कहीं।

यह लगातार दूसरा साल है जब राष्ट्रपति ट्रंप ने भारत और भारतीय मूल के अमेरिकियों के सबसे बड़े त्योहार को व्हाइट हाउस में मनाया। ट्रंप ने कहा कि हिंदुओं के रोशनी के त्योहार दिवाली के आयोजन के लिये यहां आकर मैं रोमांचित महसूस कर रहा हूं। मुझे व्हाइट हाउस में इस खूबसूरत आयोजन की मेजबानी का सौभाग्य मिला है। बेहद खास लोग।

ट्रंप ने कहा कि अमेरिका और दुनियाभर में बौद्ध, सिख और जैन धर्म के लोगों के इस बेहद खास त्योहार को मनाने के लिये हम व्हाइट हाउस में जमा हुए हैं।

इसे भी पढ़ें- भारत के खिलाफ 'युद्ध छेड़ने' की शाजिश के आरोप में NIA ने आसिया अंद्राबी के खिलाफ दायर की चार्जशीट

व्हाइट हाउस के ऐतिहासिक रूजवेल्ट रूम में औपचारिक दीया जलाने से पहले ट्रंप ने कहा कि यह त्योहार अंधकार के ऊपर प्रकाश और बुराई पर अच्छाई की जीत को दर्शाता है। यह हर्षोल्लास से भरा अवसर है, जो प्रियजन, पड़ोसियों और समुदायों को एक दूसरे के करीब लाता है।

डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि जगमगाती रोशनी लोगों को यह याद दिलाती है कि 'ज्ञान हासिल करो, लोगों का शुक्रिया अदा करो और जो लोग हमारे जीवन को संवारते हैं उन्हें हमेशा प्यार और स्नेह दो।

उन्होंने कहा कि हमारे देश को उन लाखों मेहनकश भारतीयों और दक्षिण पूर्व एशिया के नागरिकों के लिये आश्रय स्थल बनने का सौभाग्य मिला, जिन्होंने अनगिनत तरीकों से हमारे देश को समृद्ध किया। हम सब मिलकर एक गौरवशाली अमेरिकी परिवार हैं। क्या हम इससे सहमत हैं? मुझे भी यही लगता है। है न? बहुत खूब, इसमें यकीन बनाये रखें।

इसे भी पढ़ें- अंतरिक्ष में भारत को बड़ी कामयाबी, GSAT-29 की सफल लॉन्चिंग, 'डिजिटल इंडिया' में करेगा मदद

ट्रंप ने कहा कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है और स्वतंत्रता, समृद्धि एवं शांति की दिशा में दोनों देशों के बीच संबंध एक सुरक्षा कवच के तौर पर काम कर सकता है। उन्होंने कहा कि अमेरिका के भारत से बेहद गहरे रिश्ते हैं और वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ अपनी मित्रता के लिये उनके आभारी हैं।

वहां मौजूद अपनी बेटी को दर्शकों से मुखातिब करते हुए उन्होंने कहा कि मोदी मेरे मित्र हैं और अब वह इनके (इवांका के) भी दोस्त हैं। मैं कह सकता हूं कि मेरे मन में भारत और भारतीयों के लिये बहुत सम्मान है। इसके जवाब में इवांका ने कहा कि बिल्कुल ठीक।

इवांका पिछले साल भारत की यात्रा पर आयी थीं। ट्रंप प्रशासन की वह पहली शीर्ष अधिकारी थीं जो पिछले साल नवंबर में हैदराबाद में आयोजित ग्लोबल आंट्रप्रोन्योरशिप समिट में हिस्सा लेने के लिये भारत आयी थीं। ट्रंप ने अमेरिका एवं भारत के बीच जारी कारोबारी समझौते का भी जिक्र किया लेकिन उन्होंने संकेत दिया कि बातचीत जारी है लेकिन इसमें कुछ अड़चनें हैं।

उन्होंने कहा कि हमलोग भारत के साथ बेहतर कारोबारी समझौता करने की पुरजोर कोशिश कर रहे हैं। लेकिन वे बहुत अच्छे व्यापारी हैं। वे बहुत अच्छा मोल-तोल करते हैं। आप सही कहेंगे। बहुत खूब। इसलिए हम काम कर रहे हैं और इस दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

कार्यक्रम में ट्रंप प्रशासन कई शीर्ष भारतीय मूल के अमेरिकी अधिकारी शामिल हुए थे। इनमें अमेरिका में भारत के दूत नवतेज सिंह सरना, उनकी पत्नी डॉ. अविना सरना और उनके विशेष सहायक प्रतीक माथुर भी उपस्थित रहे।

सरना ने भारत और भारतीय समुदाय को यह सम्मान देने के लिये राष्ट्रपति का शुक्रिया अदा किया। व्हाइट हाउस में पहली बार 2003 में तत्कालीन राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने दिवाली का आयोजन शुरू किया था।

Next Story
Top