Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

ग्लोबल वार्मिंग में वृद्धि से आने वाले दशकों में करोड़ों लोग विस्थापित होंगे- वर्ल्ड बैंक रिपोर्ट

विश्वबैंक की एक रपट में कहा गया है कि यदि विश्व की विभिन्न सरकारों ने हस्तक्षेप नहीं किया तो आने वाले तीन दशकों में फसल बर्बादी, सूखा और समुद्र जलस्तर के बढ़ने से विस्थापित होने वालों की संख्या में बड़ा बदलाव आएगा।

ग्लोबल वार्मिंग में वृद्धि से आने वाले दशकों में करोड़ों लोग विस्थापित होंगे- वर्ल्ड बैंक रिपोर्ट

विश्वबैंक की एक रपट में कहा गया है कि यदि विश्व की विभिन्न सरकारों ने हस्तक्षेप नहीं किया तो आने वाले तीन दशकों में फसल बर्बादी, सूखा और समुद्र जलस्तर के बढ़ने से विस्थापित होने वालों की संख्या में बड़ा बदलाव आएगा।

रपट के अनुसार 2050 तक जलवायु में परिवर्तन के चलते प्रवास करने वालों की संख्या उप- सहारा अफ्रीका क्षेत्र में 8.6 करोड़ होगी। दक्षिण एशिया में यह संख्या 1.7 करोड़ और लातिनी अमेरिकी देशों में 14.3 करोड़ हो जाएगी।
रपट में कहा गया है कि इन क्षेत्रों में दुनिया की आधी से ज्यादा विकासशील आबादी रहती है।
विश्वबैंक की मुख्य कार्यकारी अधिकारी क्रिस्टालिना जार्जिएवा ने इस रपट को पेश करते वक्त कहा कि जलवायु परिवर्तन निर्दयी तौर पर‘ प्रवास का इंजन' बन गया है जो लोगों, परिवारों और पूरे के पूरे समुदायों को बेहतर आवास की खोज में अपने मूल आवास को छोड़ने पर मजबूर कर रहा है।
इस रपट के लेखकों ने तीन उदाहरणों का जिक्र किया है। इसमें कहा गया है कि 2050 तक जलवायु परिवर्तन के चलते सबसे बड़ा विस्थापित होने वाला समूह बांग्लादेश का होगा। वहीं मेक्सिको में लोगों का जलवायु परिवर्तन प्रभावित इलाकों से शहरी क्षेत्र की ओर प्रवास बढ़ेगा।
इसके अलावा इथियोपिया में 2050 तक आबादी दोगुनी होने की संभावना है लेकिन फसल के नुकसान से वहां पलायन बढ़ेगा।
Next Story
Top