Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

भारत में तेजी से बढ़ रहा है अमीरी और गरीबी का फासला, इन आंकड़ों को देखकर आंखें हो जायेगी नम

भारत में आय असमानता पर वर्ल्ड इनइक्विलिटी लैब ने एक अध्ययन किया है। इस अध्ययन में बताया गया है कि भारत में आय में गैरबराबरी काफी ऊंचे स्तर पर पहुंच गई है। शीर्ष 0.1 प्रतिशत अमीर लोगों की कुल संपत्ति बढ़कर निचले 50 प्रतिशत लोगों की कुल संपत्ति से ज्यादा हो गई है।

भारत में तेजी से बढ़ रहा है अमीरी और गरीबी का फासला, इन आंकड़ों को देखकर आंखें हो जायेगी नम

भारत में आय असमानता पर वर्ल्ड इनइक्विलिटी लैब ने एक अध्ययन किया है। इस अध्ययन में बताया गया है कि भारत में आय में गैरबराबरी काफी ऊंचे स्तर पर पहुंच गई है। शीर्ष 0.1 प्रतिशत अमीर लोगों की कुल संपत्ति बढ़कर निचले 50 प्रतिशत लोगों की कुल संपत्ति से ज्यादा हो गई है।

वर्ल्ड इनइक्विलिटी लैब के अध्ययन के अनुसार भारत में आर्थिक असमानता काफी व्यापक है और यह 1980 के दशक से लगातार बढ़ रही है। इसमें कहा गया है कि आय असमानता ऐतिहासिक रूप से काफी ऊंचे स्तर पर पहुंच गई है।
अध्ययन में बताया गया है कि शीर्ष 0.1 प्रतिशत सबसे अधिक आमदनी वाले लोगों की कुल संपदा निचले 50 प्रतिशत लोगों से अधिक हो गई है। आय असमानता में बढ़ोतरी 1947 में देश की आजादी के 30 साल की तुलना में उलट है। उस समय आय असमानता काफी घटी थी और निचले 50 प्रतिशत लोगों की संपत्ति राष्ट्रीय औसत की तुलना में ज्यादा तेजी से बढ़ी थी।
इस अध्ययन को फाकुंडो एल्वारेडो, लुकास चांसल, थॉमस पिकेटी, इमानुअल साइज और गैब्रियल जकमैन जैसे विद्वान अर्थशास्त्रियों ने तैयार किया है। इसमें पिछले 40 साल के दौरान वैश्वीकरण के असमानता वाले प्रभाव को दर्शाया गया है।
रिपोर्ट कहती है कि देश के शीर्ष एक प्रतिशत अधिक आय वाले लोगों के पास राष्ट्रीय आय का 22 प्रतिशत था। वहीं शीर्ष 10 प्रतिशत के पास 56 प्रतिशत हिस्सा था।
Share it
Top