Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

समाज सेवी नहीं थीं मदर टेरेसा, जानिए उनसे जुड़ी अनसुनी बातें

मदर टेरेसा खुद ही साफ करती थीं टॉयलेट

समाज सेवी नहीं थीं मदर टेरेसा, जानिए उनसे जुड़ी अनसुनी बातें
नई दिल्ली. यीशु का अवतार मानी जाने वाली मदर टेरेसा को आज संत की उपाधी दी जाएगी। आज भले ही हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनकी शिक्षाएं आज भी लोगों को शांति और इंसानियत कायम रखने के लिए प्रेरित कर रही हैं। आईए जानते हैं उनसे जुड़ी कुछ खास बातें...
1. मदर टेरेसा का जन्म 26 अगस्त 1910 को अल्बानिया में हुआ। उनका मूल नाम अग्नेसे गोंकशे बोजाशियु था। 1928 में वो नन बनीं। सिस्टर टेरेसा नाम मिला।
2. 24 मई 1937 को उनके काम को देखकर लॉरेटो नन ट्रेडीशन के मुताबिक उन्हें मदर की उपाधि मिली।
3. नोबेल पुरस्कार विजेता मदर टेरेसा का निधन 87 साल की उम्र में 5 सिंतबर 1997 में हुआ था। उन्होंने 1950 में मिशनरीज ऑफ चैरिटी की स्थापना की थी।
4. मदर ने 1947 में इंडियन सिटीजनशिप ली। वो फर्राटेदार बांग्ला बोलती थीं। मदर 4 या 5 घंटे ही सोतीं लेकिन ये नींद गहरी होती थी।
5. बताया जाता है कि मदर टेरेसा कभी आश्रम के बाहर एक गिलास पानी भी नहीं पीतीं थीं।
6. मदर टेरेसा को आमतौर पर खिचड़ी और चॉकलेट बहुत पसंद थी। उनके निधन के बाद उनके कमरे से बहुत सारी चॉकलेट मिली थी।
7. मदर टेरेसा के लिए कहा जाता है कि वह चमत्कार करना जानती थीं। बहुतों की लाइलाज बीमारी उनकी वजह से ठीक हुई थी। उनके पहले चमत्कार को वेटिकन ने 2003 में मान्यता दी थी। तब उनका बिटीफिकेशन हुआ था- यानी उन्हें धन्य माना गया था।
8. मदर टेरेसा की मौत के पांच साल बाद पोप जॉन पॉल द्वितीय ने उनके एक चमत्कार को स्वीकार किया था। एक बंगाली आदिवासी महिला मोनिका बेसरा को पेट का अल्सर था, जो ठीक हो गया। कहा गया कि यह मदर टेरेसा के अलौकिक ताकत की वजह से हुआ था।
9. इसी घटना की वजह से टेरेसा को 2003 में 'धन्य' (बिटिफ़िकेशन) घोषित किया गया। उसके बाद पोप फ़्रांसिस ने 2015 में उनके दूसरे चमत्कार को अपनी स्वीकृति दी, जब साल 2008 में ब्राज़ील के एक आदमी का ब्रेन ट्यूमर ठीक हो गया।
10. शहर की गंदी बस्तियों में काम करने की वजह से उन्हें 'गटर की संत' (सेंट ऑफ़ गटर्स) भी कहा जाता था।
11. बहुत कम लोग जानते हैं कि मदर को 1979 में जब नोबेल पीस अवॉर्ड मिला तो उन्होंने प्रोग्राम के बाद होने वाला डिनर कैंसल करवा दिया। मदर ने कहा था कि इस पर खर्च होने वाला पैसा वो कोलकाता के गरीबों पर खर्च करना चाहेंगी।
12. मदर टेरेसा के पास सिर्फ तीन साड़ियां थी, वो उन्हीं को बदल-बदलकर पहनती थी।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Hari bhoomi
Share it
Top