Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

डोनाल्ड ट्रंप ने तोड़ा ''मलाला युसुफजई'' का दिल

ट्रंप के शरणार्थियों पर दिए गए आदेशों पर मलाला नाराज हैं।

डोनाल्ड ट्रंप ने तोड़ा
कराची. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हाल में लिए गए फैसले पर पाकिस्तान की एक्टिविस्ट और नोबल पुरुस्कार विजेता मलाला युसुफजई नाराज हैं। मलाला का कहना है कि शरणार्थियों पर दिए गए ट्रंप के आदेश से मेरा दिल टूट गया है। मलाला ने कहा कि मुझे दु:ख है कि अमेरिका अपनी पुरानी नीति को बदल रहा है जो कि शरणार्थियों और अप्रवासियों के लिए थी।
पाक में महिलाओं की शिक्षा की पैरवी करने वाली मलाला ने कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उन बच्चों और माता पिता के अंदर पल रही उम्मीदों के दरवाजे बंद कर दिए हैं जो अपने यहां फैली हिंसा से परेशान हैं। मलाला ने कहा कि में डोनाल्ड ट्रंप से पूछना चाहती हूं कि इस समय दुनिया में फैली अशांति और अनिश्चितता के बीच वह उन बच्चों और उनके परिवार पर कैसे अपना रुख बदल सकते हैं। जो हिंसा से इस समय जूझ रहे हैं।
मलाला ने कहा कि मुझे दुख है कि अमेरिका अपनी पुरानी नीति को बदल रहा है जो कि शरणार्थियों और अप्रवासियों के लिए थी। जिन लोगों ने अमेरिका को बनाने में उसकी मदद की और अपनी कड़ी मेहनत के बाद उसे इस लायक बनाया कि वह और लोगों को नई जिंदगी दे सके। युसुफजई ने कहा कि सीरिया के शरणार्थी बच्चों का इसमें क्या दोष है जिन्हें पिछले छह साल से इस युद्ध की से उनका कितना नुकसान हुआ है। मलाला ने अपने एक दोस्त का जिक्र करते हुए बताया कि वह सोमालिया, यमन और इजिप्ट में युद्ध के कारण अमेरिका में पढ़ने के लिए अपनी बहन के पास है। उसे उम्मीद थी कि यहां उसके लिए कुछ अच्छा होगा।
ट्रंप ने एक शासकीय आदेश पर दस्तखत किए हैं। जिसमें करीब 7 मुस्लिम देशों के नागरिकों को अमेरिका में आने पर रोक लगाई गई है। ट्रंप ने करीब 7 मुस्लिम देशों पर भी पाबंदियां लगा दी हैं। गौरतलब है कि इस आदेश के बाद 7 मुस्लिम देशों के नागरिकों को 90 दिनों तक वीजा जारी नहीं किए जाएंगे।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top