Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बिना ID प्रूफ दिए बैंक कर्मियों ने बदल डाले 6 लाख रुपए, केस दर्ज

सिंडिकेट बैंक में 2 कर्मचारियों ने 6 लाख रुपए बिना आइडी प्रूफ लिए ही बदली कर दिए।

बिना ID प्रूफ दिए बैंक कर्मियों ने बदल डाले 6 लाख रुपए, केस दर्ज
हैदराबाद. नोटबंदी के मामले में दो बैंक कर्मियों पर गाज गिर गई है। हैदराबाद में सिंडिकेट बैंक के दो कर्मचारियों के खिलाफ पुलिस ने छह लाख रुपये के पुराने नोटों को बिना किसी आईडी प्रूफ लिए बदलने के आरोप में मामला दर्ज किया है। पुलिस ने सरूरनगर के कमला नगर स्थित सिंडिकेट बैंक के कैशियर राधिका और क्लर्क मल्लेश के खिलाफ केस दर्ज किया है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 500 और एक हजार के नोट बंद करने के बाद उन्हें बदलवाने के लिए लोगों को एड़ी प्रूफ देना होता है। इस मामले में एक बैंक में 2 कर्मचारियों ने करीब 6 लाख रुपए आइडी प्रूफ के बदली कर दिए। सिंडिकेट बैंक की कमला नगर ब्रांच के मैनेजर नरसैया ने सरूरनगर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। अपनी शिकायत में उन्होंने अपने दो साथियों पर आरोप लगाया कि उन्होंने शनिवार को ग्राहकों से उनका आईडी कार्ड लिए बगैर छह लाख रुपये के पुराने नोट बदले हैं। सरूरनगर के इंस्पेक्टर एस. लिगैया ने कहा, 'मल्लेश ने पुराने नोट राधिका को दिए जिसके बाद राधिका ने उन्हें नए नोटों से बदल दिया।'
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा बैंको को जारी गाइडलाइन के मुताबिक एक व्यक्ति बैंक से केवल 4000 रुपये के पुराने नोट आईडी प्रूफ दिखाकर ही बदल सकता है। राधिका ने मल्लेश के साथ सांठ-गांठ कर उससे बिना आईडी प्रूफ लिए उसे छह लाख रुपये की नगदी सौंप दी। बैंक के अधिकारियों को इंटरनल ऑडिट के दौरान इस ट्रांजेक्शन का पता चला जिसके बाद दोनों कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया। लिंगैया ने बताया, 'निलंबन के बाद मल्लेश ने बैंक को राधिक से मिले 5.6 लाख रुपये के नए नोट वापस कर दिए।'
पुलिस ने राधिका और मल्लेश के खिलाफ आईपीसी की धारा 420 (कपट पूर्वक या बेईमानी कर आर्थिक, शारीरिक और संपत्ति संबंधी क्षति पहुंचाना), 406 (अमानत में खयानत) और 417 (धोखाधड़ी) के तहत मामला दर्ज किया है। आरोपियों को आज को गिरफ्तार किया जा सकता है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top