Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

इतिहासकार बिपन चन्द्रा का 86 वर्ष की आयु में निधन, उठाई थी खालिस्तान आंदोलन के खिलाफ आवाज

उन्हें भारत सरकार ने पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित कर चुकी थी।

इतिहासकार बिपन चन्द्रा का 86 वर्ष की आयु में निधन, उठाई थी खालिस्तान आंदोलन के खिलाफ आवाज
नई दिल्ली. जानेमाने इतिहासकार प्रोफ़ेसर बिपन चन्द्रा का शनिवार करीब सुबह 6 बजे गुड़गांव स्थित उनके आवास पर 86 वर्ष की आयु में देहांत हो गया। वे पिछले कई महीनों से बीमार चल रहे थे। इसलिए उन्हें दिल्ली भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के अग्रणी अध्येताओं में गिने जाने वाले प्रोफ़ेसर बिपन चन्द्रा का जन्म 1928 में हिमांचल की कांगड़ा घाटी में हुआ था। खालिस्तान आंदोलन के खिलाफ सबसे बड़ी आवाज बिपिन चंद्र ने उठाई थी और उन्होंने इसे हिन्दू तथा सिखों को बांटने वाली सांप्रदायिकता करार दिया था।

बिपन चन्द्रा पूरी ज़िंदगी वामपंथ विचारधारा से जुड़े रहे। उन्होंने स्कूली बच्चों के लिए भी इतिहास से जुड़े तमाम किताबें लिखी। उन्होंने पीएडी की डिग्री दिल्ली विश्वविद्यालय से लिया। वे सन् 1993 में यूजीसी के सदस्य भी रह चुके हैं। वे जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग में प्रोफ़सर भी रह चुके हैं। उन्होंने इतिहास से जुड़ी कई किताबें लिखी जिसमें 'द मेकिंग ऑफ मॉडर्न इंडिया', 'फ्रॉम मार्क्स टू गांधी', 'हिस्ट्री ऑफ मॉडर्न इंडिया', 'द राइज एंड ग्रोथ ऑफ इकोनॉमिक नेशनलिज्म इन' प्रमुख है। उन्होंने लाहौर के फार्मन क्रिश्चियन कॉलेज और स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय अमेरिका से अपनी पढ़ाई पूरी की थी। चंद्रा को भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में अग्रणी विद्वानों में से एक माना जाता है।

उनके निधन पर कांग्रेस नेता नवीन ज़िंदल ने ट्वीट कर कहा कि इतिहासकार बिपन चन्द्रा के निधन की खबर सुनकर उन्हें काफी दुख पहुंचा है। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे। वहीं पेंग्विन इंडिया के प्रकाशक चिकी सरकार का कहना था कि मि. चन्द्रा हमारे प्रकाशक लेखकों में से प्रमुख लेखक थे। उनके द्वारा लिखी गई किताबें पीढ़ियों तक पढ़ी जाती हैं। उनके निधन पर हमें दुख है। उन्हें भारत सरकार ने पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित कर चुकी थी।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, सांप्रदायिकता पर बिपन चन्द्रा क्या राय रखते थे -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें,हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-

Next Story
Top