Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

''IS'' ने मार डाले थे 39 भारतीय!

हरजीत मसीह उन चालीस भारतीयों में शामिल में था जिन्हें मोसुल में खूंखार आतंकी संगठन आईएसआईएस ने पिछले साल जून में अगवा कर लिया था।

नई दिल्ली.गुरूवार को इराक में कुख्यात आतंकी संगठन के चुंगल से बचकर आए हरजीत मसीह का चंडीगढ़ में नया वी़डियो सामने आया है। उसने एक बार फिर इऱाक के मोसुल शहर में उन 39 भारतीयों की मौत का दावा किया है जिन्हें आईएसआईएस ने अगवा कर लिया था

मीडिया से बातचीत करते हुए ने बताया जून के महीने की बात है। हम लोग जिस फैक्ट्री में काम करते थे, वहां आईएसआईएस के लोग आए औऱ हमें गाड़ी पर बैठाकर ले गए। हरजीत ने आगे बताया कि अगवा किए गए लोगों मेंऔर कुछ बांग्लादेशी थे। आगे जाकर हमको अलग कर दिया गया औऱ फिर हमें बंद गाड़ी में डालकर पहाड़ की ओर ले गए और लाइन में लगाकर फायरिंग की। इस फायरिंग के दौरान में बच गया। और उनके जाने के बाद मैं वहां से उठकर भाग निकला।

आपको बता दें हरजीत मसीह उन चालीस भारतीयों में शामिल में था जिन्हें मोसुल में खूंखार आतंकी संगठन आईएसआईएस ने पिछले साल जून में अगवा कर लिया था। हरजीत पंजाब के गुरदासपुर जिले पास अपगाना गांव का रहने वाला है।
हालांकि भारत के विदेश मंत्रालय ने अब तक हरजीत मसीह के दावे यकीन नहीं किया है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इस मसले पर कहा कि वह हरजीत के उस बयान पर यकीन नहीं करती , जिसमें उन सभी 39 भारतीयों के बंधक बनाकर मारे जाने का दावा किया गया है।
विदेश मंत्री सुष्मा स्वराज ने आगे कहा कि उन्होने इराक में फंसे भारतीयों के परिवारों से मुलाकात की है। बातचीत के दौरान उन्होने कहा, हमारे पास आठ सूत्र हैं जिन्होने भारतीयों के जिंदा होने का दावा किया है। और इससे पहले हमारे पास छह सूत्र थे। आठवें सूत्र की बात पर भरोसा किया जा सकता है। हम अपने नागरिकों की तलाश जारी रखेंगे।
Next Story
Top