Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

जानें, चीनी नव वर्ष की खासियत और इससे जुड़ी रोचक बातें

वैसे तो 31 दिसंबर की रात 12 बजे लगभग पूरी दुनिया में नव वर्ष (Happy New Year 2019) मनाया गया है। लेकिन चीन में नव वर्ष (Happy New Year 2019) को स्प्रिंग फेस्टिवल (Spring Festival) के नाम से भी जाना जाता है। क्योंकि ये चीनी नव वर्ष (Happy New Year 2019) दिसंबर और मार्च के मध्य आता है। चीनी नव वर्ष (Happy New Year 2019) को मनाने की तिथि चीनी कैलेंडर के जरिए तय की जाती है।

जानें, चीनी नव वर्ष की खासियत और इससे जुड़ी रोचक बातें

Happy New Year 2019 Chinese New Year Intersting Facts

वैसे तो 31 दिसंबर की रात 12 बजे लगभग पूरी दुनिया में नव वर्ष (Happy New Year 2019) मनाया गया है। लेकिन चीन में नव वर्ष (Happy New Year 2019) को स्प्रिंग फेस्टिवल (Spring Festival) के नाम से भी जाना जाता है। क्योंकि ये चीनी नव वर्ष (Happy New Year 2019) दिसंबर और मार्च के मध्य आता है। चीनी नव वर्ष (Happy New Year 2019) को मनाने की तिथि चीनी कैलेंडर के जरिए तय की जाती है। जिसके मुताबिक सूर्य के देशांतर और चंद्रमा के चरणों की खगोलीय घटनाओं पर आधारित होती है। यही नहीं, ऐसा भी माना जाता है कि इसे 2600 से 3000 ईसा पूर्व के आसपास किसी न किसी स्तर पर सम्राट हुआंग ने 'चीनी कैलेंडर' पेश किया गया था। आज हम आपको साल के पहले दिन के साथ शुरू हुए चीनी नव वर्ष (Happy New Year 2019) की खासियत और उससे जुड़ी रोचक बातें बता रहे हैं।

चीनी कैलेंडर की खासियत

आमतौर पर चीन में लोग रोजमर्रा के कामों के लिए ग्रेगोरियन कैलेंडर का अनुसरण करते हैं, लेकिन चीनी नव वर्ष (Happy New Year 2019) के साथ ही अन्य महत्वपूर्ण त्योहारों को मनाने के लिए चीनी कैलेंडर का इस्तेमाल किया जाता है। चीनी कैलेंडर की खासियत ये भी है कि इसमें हर एक साल को पशुओं को समर्पित किया जाता है। चीनी कैलेंडर से जुड़ी मान्यता के मुताबिक, भगवान बुद्ध के प्रति सम्मान जताने केवल 12 जानवर ही आए।
जिसके बाद भगवान बुद्ध ने उन 12 जानवरों को उपहार स्वरूप प्रत्येक चीनी राशि चक्र के 12 वर्षों को 12 जानवरों में बांट दिया। तभी से चीन में हर साल को किसी खास पशु या जानवर को समर्पित किया जाता है। इसके साथ ही ये भी माना जाता है कि लोग अपने जन्म वर्ष के जानवर से विशिष्ट विशेषताओं को प्राप्त करते हैं। वैसे तो चीनी कैलेंडर, ग्रेगोरियन कैलेंडर से मिलता है, जिसे 1582 में बनाया गया था।
आपको बता दें कि चीनी कैलेंडर में वर्ष की लंबाई ग्रेगोरियन कैलेंडर में एक वर्ष की लंबाई से भिन्न होती है, इसलिए इन त्योहारों की ग्रेगोरियन तिथियां हर साल बदलती रहती हैं। जिसकी वजह से चीनी लोग अपने त्योहारों का निर्धारण करने के लिए हमेशा चंद्र कैलेंडर का उपयोग करते हैं। दुनिया भर के विभिन्न चीनी समुदाय भी इस कैलेंडर का उपयोग करते हैं।

चीनी नव वर्ष के प्रतीक

चीनी नव वर्ष में विभिन्न प्रतीक और परंपराएं को माना जाता है। उदाहरण के लिए, फूल नए साल की सजावट का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। जिसमें 'बेर खिलना' (साहस और आशा का प्रतीक) है, तो वहीं बहते पानी को (अच्छे भाग्य का प्रतीक) माना जाता है। जबकि चीन के लोग लाल रंग के पैसे वाले लिफाफे को अक्सर खुशी, सौभाग्य, सफलता और सौभाग्य का प्रतीक मानते हैं। यहीं नहीं, बुरी आत्माओं को दूर भगाने के लिए भी लिफाफों पर रंग लाल का भी उपयोग किया जाता है।

चीनी नव वर्ष का उत्सव

चीनी नव वर्ष दुनिया भर में चीनी समुदायों में मनाए जाने वाले सभी बड़े और प्रमुख त्यौहारों में सबसे लंबे वक्त तक चलने वाला उत्सव होता है। इस उत्सव में चीनी लोग घर के देवताओं के लिए प्रसाद बनाते हैं, नए कपड़े पहनते हैं, जिनमें लाल रंग को पहनना बेहद शुभ माना जाता है। इसके अलावा चीनी नव वर्ष (Happy New Year 2019) पर लोग परिवार और दोस्तों के लिए एक बड़े भोज का आयोजन करते हैं।
चीनी नव वर्ष में एक लालटेन त्योहार भी मनाया जाता है, जहां लोग मंदिरों में सजी हुई लालटेन लटकाते हैं और चीनी नव वर्ष (Happy New Year 2019) शाम को परेड के लिए लालटेन ले जाते हैं। जिसमें लोग कलाबाजी करते हुए उत्सव परेड, बीटिंग गोंग का प्रदर्शन करते हैं,शेर और ड्रैगन डांस में शामिल होते हैं।
Next Story
Top