Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने संसद के कामकाज को लेकर ने उठाए सवाल

संसद में चर्चाओं और बहस के लिये अधिक समय नहीं दिये जाने पर अफसोस जताते हुए पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने शनिवार को इसके कामकाज को लेकर चिंता जतायी।

पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने संसद के कामकाज को लेकर ने उठाए सवाल

संसद में चर्चाओं और बहस के लिये अधिक समय नहीं दिये जाने पर अफसोस जताते हुए पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने शनिवार को इसके कामकाज को लेकर चिंता जतायी।

पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त नवीन चावला की किताब ‘एवरी वोट काउंट्स' के विमोचन के अवसर पर अंसारी ने कहा कि 1950 और 1970 के दशक के दौरान संसद एक साल में 90 से 100 दिन चलती थी, लेकिन अब यह घटकर 60 से 65 दिन हो गया है।

उन्होंने कहा कि चुनाव के बाद जो भी परिणाम होता है उसका असर संस्थानों पर परिलक्षित होता है तथा इसे लेकर वह और कई नागरिक चिंतित हैं।

अंसारी ने कहा, ‘‘ये संस्थान चुनी हुई संस्थाएं हैं... जिनका नेतृत्व संसद, राज्य विधानसभाएं और ग्राम पंचायतें करती हैं... सवाल है कि क्या वे काम कर रही हैं? मेरा जवाब है कि ये बेहद अप्रभावी तरीके से काम कर रही हैं।'

Share it
Top