Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

राफेल डील में हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड शामिल नहीं है: HAL चेयरमैन

राफेल विमान की खरीद पर लगातार विवाद बना हुआ है। इसी विवाद में हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) के चेयरमैन आर माधवन ने कहा है कि राफेल डील में एचएएल का कोई संबंध नहीं है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के समय में जो डील हुई थी उसमें एचएएल शामिल था।

राफेल डील में  हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड शामिल नहीं है: HAL चेयरमैन
राफेल विमान की खरीद पर लगातार विवाद बना हुआ है। इसी विवाद में हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) के चेयरमैन आर माधवन ने कहा है कि राफेल डील में एचएएल का कोई संबंध नहीं है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के समय में जो डील हुई थी उसमें एचएएल शामिल था।
क्योंकि उस समय कुछ विमान फ्रांस में बनते और कुछ विमान एचएएल भारत में बनाता। लेकिन मोदी सरकार में जो डील हुई है उसमें कहीं भी एचएएल शामिल नहीं है। क्योंकि सभी 36 विमान फ्रांस से बनकर आ रहे हैं। यहां एचएएल को विमान बनाने का कांट्रैक्ट मिल ही नहीं सकता।

क्या कहती है पुरानी डील

यूपीए के समय में हुई पुरानी डील के मुताबिक फ्रांस से 126 राफेल विमान खरीदने थे। जिसमें से कुछ विमान फ्लाई अवे कंडीशन में यानी कि पूरी तरह उड़ान के लिए तैयार होते। बाकी विमान भारत में एचएएल द्वारा बनाए जाते या उनके हिस्सों को जोड़ा जाता।

क्यों कैंसिल हुई पुरानी डील

भारत सरकार ने फ्रांस में विमान बनाने वाली कंपनी दासौ एविएशन और फ्रांस की सरकार से सभी विमानों की गारंटी मांगी। जिसे फ्रांस ने नहीं माना। सभी विमानों की गांरंटी से मतलब था कि जो विमान फ्रांस से सीधे बनकर आएंगे और जो HAL भारत में बनाएगा दोनों की गारंटी फ्रांस को लेनी होगी। जिसपर फ्रांस का कहना था कि वह HAL दवारा बनाए जाने वाले विमान की गारंटी नहीं लेगा।
Share it
Top