Top

खुलासा: इस प्लान और कोड वर्ड से राम रहीम भक्तों से कमाता था करोड़ो रुपया

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 29 2017 9:28PM IST
खुलासा: इस प्लान और कोड वर्ड से राम रहीम भक्तों से कमाता था करोड़ो रुपया

डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम दो साध्वियों के साथ दुष्कर्म के मामले में रोहतक की जेल में बंद है। जेल जाने के बाद राम रहीम की संपत्ति का पता चला तो लोग हिल ही गई। 

राम रहीम की संपत्ति की बात की जाए तो उसके पास कम से कम 11 सौ करोड़ की संपत्ति है। लेकिन ये संपत्ति उसने कैसे कमाई इसको लेकर कई चौकाने वाली बातें सामने आई हैं। 

ये भी पढ़ें - हनीप्रीत की तलाश में बीकानेर की खाक छान रही है पुलिस, नहीं मिला अब तक कोई सुराग

मीडिया न्यूज चैनल की रिपोर्ट के जरिए पता चला है कि कैसे राम रहीम अपने भक्तों से उगाई किया करता था। 

पैसा कमाने का प्लान

  1. राम रहीम भक्तों से अपने साथ खाना खाने का चार्ज 75 लाख रुपये लिया करता था। 

  2. डेरे में बने होटलों में रूकने वाले भक्तों से वो एक ही दिन में डेढ़ लाख रुपये लिया करता था। 

  3. गुरमीत के डेरे से निकली गुड़ की टोकरी 2 करोड़ रुपये की होती थी। इसका हिसाब भी वो भक्तों से किया करता था। 

  4. भक्तों से तिलिस्म के जरिए भी पैसा कमाया करता था।

  5. डेरा में बने रेस्टोरेंट में थाली का चार्ज 25 हजार से 30 हजार हुआ करता था। 

  6. अगर होटल या रेस्टोरेंट में भक्त नहीं आते थे तो वो खुद होटल आया करता था, जिससे वो भक्तों को मूर्ख बनाकर पैसा कमा सके। 

  7. अगर कोई भक्त फ्लाइट से आ रहा होता था तो वो भक्त के लिए अपनी लग्जरी कार भेजा करता था, जिसका चार्ज संस्थान भक्तों से लिया करता था। 

  8. अगर खेत में सब्जियां उगाया करता था और फिर बाद में उसकी बोली लगा कर उसे बेचा भी करता था। जिसकी बोली लाख तक पहुंच जाया करती थी। 

  9. जब भी इस चीजों में से किसी भी कारोबार में कमी होती तो वो एक नया प्लान बनता और भक्तों को अंधविश्वास के चलते पैसा कमाया करता था। 


ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
gurmeet ram rahim earning money by devotees by illegal ways

-Tags:#Ram Rahim Singh#Ram Rahim Verdic#Panchkula#‪Dera Sacha Sauda
mansoon
mansoon
mansoon

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo