Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गुजरात चुनाव 2017ः जिग्नेश, अल्पेश सहित इन नेताओं पर टिकी है देश की नजरें

गुजरात विधानसभा के आज परिणाम घोषित होंगे। इस चुनाव में गुजरात की कई महत्वपूर्ण सीटों पर सबकी निगाहें टिकी रहेंगी।

गुजरात चुनाव 2017ः जिग्नेश, अल्पेश सहित इन नेताओं पर टिकी है देश की नजरें

गुजरात विधानसभा के आज परिणाम घोषित होंगे। इस चुनाव में गुजरात की कई महत्वपूर्ण सीटों पर सबकी निगाहें टिकी रहेंगी। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, जिग्नेश मेवाणी और अल्पेश ठाकोर की सीटों सहित भाजपा के कई नेताओं की हार-जीत पर गुजरात और देश की जनता की नजरें रहेंगी।

विजय रूपाणी

गुजरात की राजनीति में राजकोट पश्चिम विधानसभा सीट बेहद महत्वपूर्ण है। इसे भाजपा की सबसे सुरक्षित सीट भी माना जाता है। 1985 से ही इस पर भाजपा काबिज रही है। 2014 में यहां से वर्तमान मुख्यमंत्री विजय रूपाणी विधायक चुने गए।

हार्दिक पटेल का कांग्रेस को समर्थन

पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने सूरत में कई विधानसभा रैलियां की हैं। हालांकि हार्दिक पटेल ने चुनाव नहीं लड़ा है, लेकिन पाटीदार आंदोलन को बढ़ावा दिया और कांग्रेस के समर्थन में रैलिया की है। साल 2015 के सूरत नगर निगम चुनाव में कांग्रेस को 36 सीटों पर जीत मिली थी। ऐसा 25 साल बाद हुआ था कि कांग्रेस नगर निगम चुनाव में पाटीदारों के दबदबे वाले इलाक़ों में जीत दर्ज करने में कामयाब रही थी।
स्थानीय नेताओं और पाटीदारों का मानना है कि 12 में से कम से कम सात सीटें ऐसी हैं जहां बीजेपी के लिए जीत आसान नहीं होगी। सूरत उत्तर, लिंबायत और कटारगाम जैसे इलाक़ों में कड़ी टक्कर होने की उम्मीद है। यहां की वरच्छा रोड, करंज, कटारगाम, कमरेज और सूरत दक्षिण सीटों पर पाटीदार वोटरों का दबदबा है।
जिग्नेश मेवाणी
जिग्नेश मेवाणी बनासकांठा के वडगाम सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ा हैं। हालांकि कांग्रेस ने पहले जिग्नेश मेवाणी को अपनी पार्टी से चुनाव लड़ने का ऑफर दिया था, लेकिन जिग्नेश ने मना कर दिया। कांग्रेस ने जिग्नेश मेवाणी के सामने कोई कांग्रेसी प्रत्याशी नहीं खड़ा किया। इस सीट पर भाजपा की तरफ से यहां विजय चक्रवर्ती मैदान में हैं। इस चुनाव में यहां से 12 प्रत्याशी अपना किस्मत आज़मा रहे हैं। यहां मतदान औसत से अधिक 71.23 फ़ीसदी हुआ।
वडगाम एससी सुरक्षित सीट है। इसे कांग्रेस का गढ़ माना जाता है। 2012 में यहां से कांग्रेस प्रत्याशी मणिलाल वाघेला ने 90 हज़ार वोटों के बड़े अंतर से चुनाव जीता था। इस बार कांग्रेस ने यहां अपना प्रत्याशी नहीं उतारा है।
अल्पेश ठाकोर
गुजरात में ओबीसी नेता के तौर पर उभरे अल्पेश ठाकुर पाटीदारों को आरक्षण देने का विरोध करते रहे हैं। साथ ही वह गुजरात सरकार के शराबबंदी के फैसले के पक्षधर रहे हैं। विरमगाम विधानसभा सीट हार्दिक पटेल और अल्पेश ठाकोर का गृहनगर होने की वजह से काफी अहम है। 42 वर्षीय अल्पेश कांग्रेस के टिकट पर मैदान में हैं। चौथी पास ठाकोर के सामने खड़े अल्पेश 12वीं पास हैं। यहां तक़रीबन 67 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया।
उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल
पाटीदार आंदोलन के गढ़ रहे मेहसाणा सीट पर गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल चुनाव लड़ रहे हैं। उन्होंने पहले ही एलान कर दिया था कि वो मेहसाणा से मैदान में उतरेंगे। कांग्रेस ने यहां से जीवाभाई पटेल को उतारा है।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष जीतू वघानी
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष जीतू वघानी भावनगर पश्चिम सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। कांग्रेस ने यहां से दिलीप सिंह गोहिल को उतारा है। यहां से 10 प्रत्याशी अपना भाग्य आज़मा रहे हैं। यहां 62.08 फ़ीसदी वोट डाले गए थे।
Next Story
Share it
Top