Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गुजरातः 2000 रुपए के नए नोटों में दी गई 2.9 लाख की रिश्वत

दो अधिकारियों को रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया गया है।

गुजरातः 2000 रुपए के नए नोटों में दी गई 2.9 लाख की रिश्वत
नई दिल्ली. कालेधन की समस्या को जड़ से उखाड़ने के लिए सरकार द्वारा नोटबंदी के फैसले के बाद एक तरफ देश में जहां नोटों के लिए मारामारी है, वहीं गुजरात में पोर्ट ट्रस्ट के दो अधिकारियों को 2.5 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया गया है। इनमें से एक के घर से 40,000 रुपये घूस की अतिरिक्त रकम भी बरामद की गई। सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि घूस की यह पूरी 2.9 लाख की रकम नए 2000 रुपये के नोटों में थी। इस नए नोट को 11 नवंबर को लॉन्च किया गया था।
नोटबंदी के फैसले के बाद से ही देशभर में बैंक और एटीएम के बाहर लगातार लंबी-लंबी कतारें देखी जा रही हैं और लोगों को नकदी निकालने में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। फिलहाल एक एकाउंट से एक हफ्ते में सिर्फ 24,000 रुपये ही निकाले जा सकते हैं। गुजरात एंटी करप्शन ब्यूरो के अधिकारियों ने बताया कि कांडला पोर्ट ट्रस्ट के सुपरिटेंडिंग इंजीनियर पी श्रीविवासु और सब डिवीजनल ऑफिसर के। कोमतेकर ने एक प्राइवेट इलेक्ट्रिकल फर्म के पेंडिंग बिलों के भुगतान के लिए 4.4 लाख रुपये की रिश्वत मांगी थी। इन दोनों अधिकारियों के बिचौलिये रुद्रेश्वर ने 15 नवंबर को इस रकम के एक हिस्से के रूप में 2.5 लाख रुपये लिए।
एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने जाल बिछाकर इस बिचौलिये को पकड़ लिया। फर्म के मालिकों ने दोनों अधिकारियों द्वारा रिश्वत मांगे जाने के बारे में एसीबी को पहले ही जानकारी दे दी थी। श्रीविवासु के घर से भी 40,000 रुपये बरामद किए गए। अधिकारियों ने बताया कि श्रीविवासु ने कबूल किया कि यह रकम रिश्वत के उस डील का ही हिस्सा है। एसीबी अब इस बात की जांच कर रही है कि ये करेंसी नोट कैसे हासिल किए गए।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top