logo
Breaking

दिल्ली / विज्ञान भवन में GST काउंसिल की बैठक शुरू

केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में जीएसटी काउंसिल की बैठक विज्ञान भवन में आहूत की गई है। इसमें सभी राज्यों के वित्तमंत्रियों को बुलाया गया है। जीएसटी के प्रारूप पर चर्चा होनी है।

दिल्ली / विज्ञान भवन में GST काउंसिल की बैठक शुरू

केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में जीएसटी काउंसिल की 31वीं बैठक दिल्ली के विज्ञान भवन शरू हो गई है। इस बैठक में जीएसटी के प्रारूप पर चर्चा होनी है।पूरे देश की निगाहें इस बैठक पर लगी हैं। यह उम्मीद की जा रही है कि काउंसिल में कई वस्तुओं पर जीएसटी दर कम करने के फैसले पर मुहर लगेगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गत दिनों जीएसटी पर दिए सार्वजनिक बयान के बाद मामला तकनीकी से ज्यादा अब राजनीतिक हो गया है। लिहाजा, कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व ने राजस्थान, मप्र, छग, पंजाब और पुडुचेरी की कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्रियों को हिदायत दिया है कि काउंसिल की बैठक में संबंधित विभाग के मंत्री या मुख्यमंत्री जाएं किसी अधिकारी के जिम्मे इस बैठक को नहीं छोड़ा जाना चाहिए।

बैठक में इस बात का विरोध करने को कहा गया है कि आखिर जीएसटी के प्रारूप पर काउंसिल को सर्वोच्च माना गया है तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किस आधार पर गत दिनों सार्वजनिक मंच से घोषणा किया कि 99 फीसदी जनोपयोगी वस्तुओं को जीएसटी के दायरे में लाकर सस्ता किया जाएगा?

राहुल से मुलाकात के बाद लौटने वाले थे रायुपर

मुख्यमंत्री बघेल पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक राहुल गांधी से शुक्रवार देर शाम मुलाकात के बाद शनिवार को लौटने वाले थे, अब माना जा रहा है कि मंत्रिमंडल के गठन के लिए माथापच्ची के साथ जीएसटी काउंसिल की बैठक में भाग लेंगे। जीएसटी काउंसिल की बैठक में मुख्यमंत्री को क्या लाइन लेनी है और कैसे केंद्र सरकार पर दबाव बनाना है।

उसका मंत्र भूपेश बघेल को लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने अपने आवास पर लंबी मुलाकात में दिया। जीएसटी में टैक्स के कई स्लैब्स के बजाय कांग्रेस की पुरानी लाइन ‘वन नेशन, वन टैक्स’ के फार्मूले को कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्री आगे बढ़ाते हुए कल विज्ञान भवन में नजर आएंगे। भूपेश बघेल के तेवर से केंद्र सरकार पहली बार दो-चार होगी।

Loading...
Share it
Top