Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सरकार ने डीडी और आकाशवाणी का पैसा रोकने की खबर को बताया ''मानहानिकारक''

सरकार ने इन खबरों को ‘मानहानिकारक'' और ‘कपटपूर्ण'' करार दिया कि सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने प्रसार भारती के साथ कथित गतिरोध को लेकर उसके कर्मचारियों की तनख्वाह के भुगतान से संबंधित राशि रोक ली है।

सरकार ने डीडी और आकाशवाणी का पैसा रोकने की खबर को बताया मानहानिकारक
X

सरकार ने आज इन खबरों को ‘मानहानिकारक' और ‘कपटपूर्ण' करार दिया कि सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने प्रसार भारती के साथ कथित गतिरोध को लेकर उसके कर्मचारियों की तनख्वाह के भुगतान से संबंधित राशि रोक ली है। प्रसार भारत एक स्वायत्त निकाय है जो दूरदर्शन और आकाशवाणी चलाता है लेकिन उसे सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से अनुदान मिलता है।

मंत्रालय ने न्यूज वेबसाइट द वायर समेत मीडिया में आयी खबरों पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए एक बयान में कहा, ‘‘यह सूचना बदनीयती से प्रेरित तथा आधे-अधूरे तथ्यों पर आधारित गलत सूचना है। यह लोगों की नजर में सरकार की छवि को नुकसान पहुंचाने जैसा है। यह स्पष्टत: मानहानिकारक है। '

ये भी पढ़ें- गौरी लंकेश मर्डर केस: पांच महीने बाद पहली गिरफ्तारी, SIT करेगी पूछताछ

द वायर ने प्रसार भारती के अध्यक्ष ए सूर्य प्रकाश के हवाले से कहा था कि सार्वजनिक प्रसारक को जनवरी और फरवरी के लिए अपने कर्मचारियों की तनख्वाह अपनी आकस्मिक निधि से भुगतान करना पड़ी है क्योंकि मंत्रालय ने पैसा जारी नहीं किया।

द वायर के अनुसार यदि गतिरोध जारी रहा तो प्रसारक के पास अप्रैल तक पैसा खत्म हो जाएगा। यह गतिरोध सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी एवं प्रसार भारती के बीच मतभेद का परिणाम है।

सरकारी बयान में कहा गया है कि प्रसार भारती सरकार की सामान्य वित्तीय नियमावली से बंधा है क्योंकि उसे सरकार से सहायता अनुदान मिलता है। सहायता अनुदान प्राप्त करने वाले किसी भी स्वायत्त संगठन को मंत्रालय के साथ इस बात के सहमति ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने होते हैं कि वह उस वित्त वर्ष में फलां फलां गतिविधियां एक निश्चित समय सीमा के अंदर पूरा करेगा।

बयान में कहा गया है, ‘‘रिकार्ड के तौर पर, मंत्रालय से बार बार स्मरण पत्र भेजे जाने के बाद भी प्रसार भारती ने एमओयू नहीं किया है। ' प्रकाश प्रतिक्रिया के लिए उपलब्ध नहीं थे।

ये भी पढ़ें- दिल्ली: होली पर यातायात नियम तोड़ने पर 9300 से ज्यादा लोगों के खिलाफ कार्रवाई

द वायर के अनुसार मंत्रालय और प्रसार भारती के बीच गतिरोध इस बात को लेकर है कि प्रसार भारती ने उस निजी कंपनी को तीन करोड़ रुपये देने से इनकार कर दिया जिसे मंत्रालय ने गोवा में हाल ही में संपन्न भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्मोत्सव के उद्घाटन एवं समापन समारोह के कवरेज के लिए सेवा पर लिया था।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story