Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

13 साल की होते ही लड़कियों को करनी पड़ती है ''वेश्यावृति''

इस गांव में पहली शादी 2012 में एक NGO के दखल के कारण हुई थी

13 साल की होते ही लड़कियों को करनी पड़ती है
अहमदाबाद. भारतीय समाज में महिलाओं को हमेशा सम्मान से देखा गया है। जहां महिलाओं को इस देश में देवी का रूप माना जाता है वहीं इसी देश में एक गांव ऐसा भी हैं जहां पर लड़की की उम्र 13 साल होने पर वेश्यावृत्ति के धंधे पर उतार दिया जाता है।
दरअसल गुजरात का वाडिया गांव साराणिया जाति का बसाया हुआ है। इस गांव में लगभग हर लड़की को 13 साल की उम्र से ही वेश्यावृत्ति के धंधे में धकेल दिया जाता है। कई सालों से इस गांव के विकास के लिए किए गए कामों का भी यहां कोई प्रभाव नहीं पड़ा है। इस गांव में पहली शादी 2012 में एक NGO के दखल के कारण हुई थी। इस कपल को जान का खतरा है इसलिए यह सुरक्षा की मांग कर रहा है, क्योंकि गांव वाले नहीं चाहते कि उनका शादीशुदा जीवन आराम से चले।
गांववालों का मानना है कि अगर इनकी शादी सफल हो गई तो यह गांव की बाकी लड़कियों को भी ऐसा ही करने के लिए उकसाएगी, जो यहां चलने वाले वेश्यावृत्ति के काम के लिए एक खतरा है। 25 साल का केशाजी चौधरी और 24 वर्षीय रुपल चौहान (बदला नाम) 26 अगस्त को अहमदाबाद में शादी करने के बाद से एक जगह से दूसरी जगह भटक रहे हैं। रुपल ने कहा, 'जिस दिन हमारी शादी हुई थी वह दिन मेरे सपने पूरे होने जैसा था। मुझे यकीन नहीं था कि मैं भी एक आम महिला की तरह जिंदगी जी पाऊंगी, लेकिन केशाजी ने मुझे ताकत दी।'
केशाजी का कहा, 'मैं रुपल से 1 साल पहले मिला था। लगातार मिलने के बाद मैंने उसे अपनी फीलिंग्स बताई, लेकिन उसे समझाने में 6 महीने लग गए। उसके परिवार वाले भी एक बार तो तैयार हो गए थे। लेकिन किसी मध्यस्थ के कारण उनका मन बदल गया, जिसके कारण हम दोनों के भागने के लिए मजबूर होना पड़ा।' बनासकांठा के एसपी नीरज बड़गुजर ने कहा कि हमारे पास अभी तक ऐसी कोई शिकायत नहीं आई है। अगर ऐसा होता है तो पुलिस दोनों को सुरक्षा देगी और अगर वे चाहें तो एफआईआर भी दर्ज करा सकते हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top