Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अर्थव्यवस्था के ‘अच्छे दिन’ शुरू, विदेशी कर्ज के बोझ को कम करेगी सरकार!

सरकार की ओर से शुक्रवार को जारी आंकड़े के अनुसार पिछले वित्त वर्ष की पहली तिमाही में यह दर 4.7 प्रतिशत रही थी।

अर्थव्यवस्था के ‘अच्छे दिन’ शुरू, विदेशी कर्ज के बोझ को कम करेगी सरकार!
नई दिल्ली. केंद्र में निर्णायक नेतृत्व वाली स्थिर सरकार बनने का असर अर्थव्यवस्था पर साफ-साफ दिखाई दे रहा है। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की विकास दर बढ़कर ढाई साल के उच्चतम स्तर 5.7 प्रतिशत पर पहुंच गई है।
सरकार की ओर से शुक्रवार को जारी आंकड़े के अनुसार पिछले वित्त वर्ष की पहली तिमाही में यह दर 4.7 प्रतिशत रही थी। चालू वित्त वर्ष के अप्रैल-जून तिमाही में बिजली, गैस और जलापूर्ति क्षेत्र की विकास दर 10.2 प्रतिशत रही, जबकि दूसरी तरफ यह पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में यह 3.8 प्रतिशत रही थी। इस दौरान वित्त बीमा रियल एस्टेट और कारोबारी सेवा क्षेत्र की विकास दर भी 10.4 प्रतिशत रही है।
सामुदायिक सामाजिक और व्यक्तिगत सेवाओं की वृद्धि दर 9.1 प्रतिशत रही है। अर्थव्यवस्था में महती भूमिका निभाने वाले विनिर्माण क्षेत्र का प्रदर्शन बेहतर रहा है। इस दौरान विनिर्माण क्षेत्र 3.5 प्रतिशत की दर से बढ़ा जबकि पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में यह 1.2 प्रतिशत ऋणात्मक रहा था।
इस दौरान निर्माण क्षेत्र 4.8 प्रतिशत की दर से बढ़ा है। हालांकि कृषि क्षेत्र का प्रदर्शन पिछले वित्त वर्ष की पहली तिमाही के 4.0 प्रतिशत से घटकर 3.8 प्रतिशत पर आ गई है। केंद्र में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में निर्णायक और स्थिर सरकार बनने से अर्थव्यवस्था को गति मिली है। पिछले दो वित्त वर्ष में लगातार विकास दर पांच प्रतिशत से नीचे बनी हुई थी लेकिन पहली तिमाही में हुई वृद्धि से लगता है अर्थव्यवस्था के लिए अच्छे दिन आ गए हैं।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, विदेशी कर्ज को कम करने के लिए क्या करेगी -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Next Story
Top