Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

इस ''संपादकीय- लेख'' की वजह से गौरी लंकेश को मारी गई गोली!

लंकेश ने लिखा कि राम रहीम की सजा के ऐलान के बाद राम रहीम की पीएम मोदी और कई बीजेपी नेताओं के साथ फोटो वायरल हुई थी जिससे संघ परेशान हो गया।

इसके बाद संघ ने राम रहीम के साथ केरल सीपीएम के सीएम पिनराई विजयन के बैठे होने की फोटो वायरल कर दी और यह तस्वीर फोटोशॉप की हुई थी।

जबकि असली तस्वीर में कांग्रेस नेता ओमन चंडी बैठे थे और कुछ लोगों ने इसकी ओरिजनल फोटो सोशल मीडिया पर डालकर सच्चाई सामने ला दी। लंकेश ने लिखा कि आजकल की मेनस्ट्रीम मीडिया वही दिखाती है जो सरकार बोलती है।
फेक न्यूज का सच लाने वाली आज कई वेबसाइट काम कर रही हैं जैसे द वायर, द क्विंट, न्यूज लौंडरी, स्क्रोल.इन और इनके काम से संघ के लोग परेशान हैं।
अहम बात ये है कि ये लोग पैसे के लिए काम नहीं कर रहे। इनका एक ही मकसद है कि फासिस्ट लोगों के झूठ की फैक्ट्री को लोगों के सामने लाना।
गौरतलब है कि गौरी लंकेश शुरू से ही बीजेपी और संघ नेताओं के खिलाफ बोलती आई हैं। अभी इस मामले की जां हो रही है कि इनकी हत्या का जिम्मेदार कौन है।
Next Story
Share it
Top