Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

35 करोड़ के घोटाले से जुड़ा है चाईबासा कोषागार मामला, ऐसे लगाई थी अधिकारियों को चपत

सीबीआई की विशेष अदालत ने चाईबासा कोषागार घोटाले में फैसला सुनाते हुये लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है।

35 करोड़ के घोटाले से जुड़ा है चाईबासा कोषागार मामला, ऐसे लगाई थी अधिकारियों को चपत

राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव चारा घोटाले से जुड़े एक अन्य मामले में भी दोषी साबित हो चुके हैं। सीबीआई की विशेष अदालत ने चाईबासा कोषागार घोटाले में फैसला सुनाते हुये लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा को भी इस मामले में आरोपी बताया गया है।

हालांकि इस मामले में सीबीआई ने 10 जनवरी को ही बहर पूरी कर ली थी और अदालत ने फैसले को सुरक्षित कर लिया था।
सीबीआई के विशेष न्यायाधीश स्वर्ण शंकर प्रसाद की अदालत ने लालू यादव तथा जगन्नाथ मित्रा समेत 50 लोगों को इस मामले में दोषी ठहराया है। साथ ही अदालत ने 6 आरोपियों को बरी कर दिया है।
सीबीआई की आर्थिक अपराध शाखा के अनुसार चाईबासा कोषागार घोटाल 950 करोड़ रुपये के चारा घोटाले से जुड़ा है। और इसमें से 35 करोड़, 62 लाख रुपये फर्जी ढंग से निकालने के मामले में उन्हें दोषी ठहराया गया है।
आपको बता दें कि देवघर कोषागार की तरह ही चाईबासा कोषागार घोटाला है। इससे भी 1992-93 में फर्जी तरीके से 33.67 करोड़ रुपए की निकासी अवैध तरीके से की गई थी।
1996 में इस मामले में पुलिस में रिपोर्ट दर्ज हुई थी और लालू प्रसाद यादव व डॉ. जगन्नाथ मिश्रा समेत 76 लोगों को आरोपी बनाया गया था। 76 में से 14 लोगों का निधन हो चुका है. कई आरोपी सरकारी गवाह बन चुके हैं।
गौरतलब है कि लालू यादव इस मामले से पहले चारा घोटाले के देवघर कोषागार मामले में साढ़े तीन साल की सजा काट रहे हैं। बीती 6 जनवरी को रांची की एक विशेष अदालत ने 950 करोड़ रूपये के इस घोटाले में लालू प्रसाद यादव एवं बिहार के पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को साढ़े तीन साल की कैद और पांच लाख रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई थी।
Next Story
Share it
Top