Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बाढ़ ने आधे भारत में मचाई तबाही, लाखों हुए बेघर

मध्यप्रदेश में बीते 24 घंटे से हो रही बारिश से अब तक 25 लोगों की मौत हो चुकी है

बाढ़ ने आधे भारत में मचाई तबाही, लाखों हुए बेघर
नई दिल्ली. देशभर के लगभग आधे हिस्से में पानी ने अपना कहर मचाया हुआ है। भारी बारिश ने बिहार, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में तबाही मचाई हुई है। बिहार में गंगा नदी पूरे उफान पर है। आलम यह है कि गंगा नदी के जलस्तर में एक मीटर का इजाफा हो जाए तो पूरा पटना शहर डूब जायेगा। मध्यप्रदेश में 25 लोगों की मौत हो चुकी है।
इतना ही नहीं बाढ़ की वजह से पश्चिम बंगाल भी ग्रस्त है। महानगर कोलकाता समेत पूरे दक्षिण बंगाल में बारिश हो रही है। मौसम विभाग ने एक बार फिर अगले 24 घंटे के दौरान मध्यम से भारी बारिश होने की आशंका जतायी है।
मौसम विभाग की चेतावनी के बाद से मछुआरों को समुद्र में जाने से मना कर दिया गया है। आपदा प्रबंधन विभाग, सिंचाई विभाग एवं तटरक्षक बलों को पूरी तरह तैयार रहने का निर्देश जारी किया गया है।

पटना के जलमग्न हो जाने का खतरा
बिहार में आलम यह है कि गंगा के जलस्तर में एक मीटर और वृद्धि हुई तो पूरा पटना शहर जलमग्न हो जायेगा। नदियां यहां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। बिहार में गंगा सहित पांच नदियां पटना, भागलपुर, खगड़िया, कटिहार, सिवान, भोजपुर और बक्सर में खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। गंगा पटना जिले के दीघाहाट, गांधी घाट, हाथीदह, भागलपुर में कहलगांव, बक्सर में खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। अन्य नदियों में सोन नदी भोजपुर के कोइलवर और पुनपुन नदी पटना के श्रीपालपुर में खतरे की सीमा रेखा को पार कर गयी है।
वाराणसी शहर में नाव चलने की नौबत
वाराणसी में गंगा में उफान लगातार जारी है। पलट प्रवाह से वरुणा में भी उफान की स्थिति है और कई तटीय इलाकों में स्थिति दुरूह बनी हुई है। गंगा के तटवर्ती क्षेत्रों और शहर के कई इलाकों में नाव चलने तक की नौबत आ गयी है। इलाहाबाद में यमुना ने भी शनिवार को खतरे के निशान को पार कर गयी। गंगा के बाद यमुना के लाल निशान पार करने से कछारी क्षेत्रों में रहने वालों की मुश्किल बढ़ा दी है। उत्तर प्रदेश के पूर्वाचल में गंगा व घाघरा संग अन्य सहायक नदियों का कहर जारी है। डीएम ने शासन से एनडीआरएफ व जल पुलिस की मदद मांगी है।
राजस्थान में 51 लोगों को हेलीकॉप्टर से बचाया गया
मध्यप्रदेश में बीते 24 घंटे से हो रही बारिश से अब तक 25 लोगों की मौत हो चुकी है। राहतगढ़ और कटनी में मकान गिरने से 9 जानें जा चुकी हैं। मैहर में हाउसिंग बोर्ड की बिल्डिंग गिरने से दो लोगों की मौत हो गयी। उधर, राजस्थान में भारी बारिश से कई गांव टापू बन गये हैं। दो दिन से लगातार हो रही बारिश से प्रतापगढ़, चित्तौड़गढ़, बांसवाड़ा और हाड़ौती में पानी में फंसे लोगों को बचाया जा रहा है। वहीं प्रतापगढ़ जिले के धरियावद में तीन स्थानों से 51 लोगों को हेलीकॉप्टर से एयरलिफ्ट किया गया। मौसम विभाग ने राजस्थान के पूर्वी भाग में अगले 24 घंटों में भारी वर्षा की चेतावनी जारी की है। भीलवाड़ा, बांसवाड़ा, प्रतापगढ़, कोटा और बारां जिले में भारी वर्षा की संभावना है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top