Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गुजरात चुनाव 2017ः पांच फैक्टर, क्यों गुजरात में कोई नहीं हरा सकता भाजपा को

बीजेपी को इस बार कांग्रेस कड़ी टक्कर दे सकती है।

गुजरात चुनाव 2017ः पांच फैक्टर, क्यों गुजरात में कोई नहीं हरा सकता भाजपा को

गुजरात में विधानसभा चुनाव सर पर हैं। भारतीय जनता पार्टी की सरकार गुजरात की सत्ता पर दो दशकों से अपनी पकड़ बनाए हुए है। इस बार होने वाले चुनावों की तैयारियों को देखा जाए तो कांग्रेस बीजेपी को कड़ी टक्कर दे सकती है। कांग्रेस ने इस बार चुनावों की तैयारी अच्छे से की है।

लेकिन फिर भी कुछ ऐसे फैक्टर्स हैं जो कि बीजेपी को गुजरात में जीत दिला सकते हैं। आइए आपको बताते हैं उन पांच फैक्टर्स के बारे में।
1. पाटीदार समुदाय को गुजरात में बीजेपी की नैइया पार कराने वाला माना जाता है। गुजरात में 16 फीसदि पाटीदार वोटर्स हैं।2015 में हार्दिक पटेल ने आरक्षण आंदोलन किया था जिसके बाद पाटीदार बीजेपी से खफा हैं। हार्दिक जहां कांग्रेस के साथ जा सकते हैं वहीं पाटीदार आरक्षण संघर्ष समिति बीजेपी के साथ है।

हर्दिक कड़वा पटेल हैं, गुजरात में लेउवा पटेल की जनसंख्या ज्यादा है जो कि बीजेपी के साथ हैं। पटेल समुदाय को मनाने की हर कोशिश बीजेपी कर रही है अब देखना ये है कि वो कितनी सफल होती है।
2. पाटीदारों को आरक्षण न देकर बीजेपी ने ओबीसी समुदाय का दिल लुभाने की कोशिश की है। उल्लेखनीय है कि अगर बीजेपी पाटीदार समुदाय की बात मानकर उन्हें आरक्षण दे देती है तो समुदार को ओबीसी में शामिल करना पड़ता जिससे की ओबीसी भाजपा से नाराज हो जाती।
प्रधानमंत्री मोदी के मुताबिक वो पिछड़े वर्ग के हैं और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का बैकग्राउंड भी पिछड़े वर्ग का है। इन बातों से ऐसा लगता है कि ओबीसी समुदाय बीजेपी का साथ देगा।
3. गुजरात में व्यापार बहुत फैला है। जीएसटी लागू होने के बाद गुजरात के व्यापारी नरेंद्र मोदी सरकार से खफा हो गए। सूरत के व्यापारियों ने कैश रसीद तक पर ये लिख दिया था की कमल का फूल हमारी भूल। बीजेपी ने इसे देखते हुए जीएसटी के तहत व्यापारियों को कई तरह की छूट दी है।
इसे गुजरात के कारोबारी बीजेपी से खुश नजर आ रहे हैं। माना जा रहा है कि उनका साथ भी बीजेपी को मिल सकता है।

4. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी जैन समुदाय से हैं और जैन समुदाय गुजरात में ज्यादातर व्यापार से जुड़ा हुआ है। इससे गुजरात के व्यापारी भी बीजेपी से खुश नजर आ रहे हैं।
5. गुजरात में देश की पहली बुलट ट्रेन चलाई गई। ये ट्रेन अहमदाबाद से मुंबई के बीच चलेगी और ये करीब 1.08 लाख करोड़ रुपए की लागत वाली परियोजना है। इस परियोजना को 22 अगस्त 2022 तक पूरा कर लेने का लक्ष्य है।
Share it
Top