Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भारत में पहली बार पैदा हुआ टेस्ट ट्यूब बछड़ा

एक गाय अपनी उम्र में ज्यादा से ज्यादा 10 से 12 बच्चे ही दे सकती है।

भारत में पहली बार पैदा हुआ टेस्ट ट्यूब बछड़ा
X

इंदापुर में पहली बार मोबाइल तकनीकी से टेस्ट ट्यूब बछड़ा पैदा हुआ है। 34 वर्षीय माजिद खान ने इस कामयाबी पर खुशी जाहिर करते हुये कहा कि हम सबकी कोशिशों की जीत हुई है, और डॉ विजयपत सिंघानिया के एनजीओ ने यह काम किया है।

इस लिहाजा से बछड़े का नाम भी विजय रखा गया है। हालांकि माजिद इस ऐतिहासिक पल में थोड़े नाउम्मीद भी हैं, उनका कहना है कि आज देश में ज्यादा दूध देने वाली गायों को यदि बचाना है तो आईवीएफ के अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं है।

इसे भी पढ़े:- पूर्व रेल मंत्री पवन बंसल के आवास पर आयकर विभाग का छापा

उन्होंने कहा की हमने आईवीएफ का फैसला इसलिए लिया क्यों कि एक गाय अपनी उम्र में ज्यादा से ज्यादा 10 से 12 बच्चे ही दे सकती है, लेकिन अब आईवीएफ की मदद से उन्हीं गायों पर सरोगसी के इस्तेमाल करने से उम्रभर में 200 बच्चे पाए जा सकते हैं। इसलिए, अब गायों की नस्ल को बढ़ाने के लिए कोई और चारा नहीं है।

अब पशुओं के लिए भी आईवीएफ

आमतौर पर इंसानों में इनफर्टिलिटी की समस्या हो तब आईवीएफ का सहारा लिया जाता है। लेकिन अब गायों की देसी नस्ल को उनके मूल स्थिति में रखने के लिए और उनकी तादादा बढ़ाने में भी इस तकनीकी से बेहतर मदद मिलेगी।

आपको बता दें कि पशु चिकित्सक डा. विजयपत सिंघानिया जेके ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं, और उन्होंने 1974 में पशुचिकित्सा शास्त्र से ग्रेजुएट किया है। डा. विजयपत सिंघानिया ने बकरियों और गायों में भ्रूण प्रत्यारोपण का शोध लिख कर इस विषय पर देश की पहली पीएचडी की है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story