Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

जी-20 सम्मेलन में भाग लेने अंकारा पहुंचे वित्तमंत्री जेटली, मुद्रा अवमूल्यन मुद्दे पर विचार

भारत ने कहा कि ऐसे समय जब वैश्विक मांग सुस्त है, करेंसी का अवमूल्यन करना वैश्विक अर्थव्यवस्था की स्थिरता के लिए खतरा है।

जी-20 सम्मेलन में भाग लेने अंकारा पहुंचे वित्तमंत्री जेटली, मुद्रा अवमूल्यन मुद्दे पर विचार

अंकारा (तुर्की). जी-20 देशों के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंक प्रमुखों की यहां शुक्रवार से से शुरू होने वाली दो दिवसीय बैठक में चीन की करेंसी युआन का अवमूल्यन और उसकी आर्थिक सुस्ती से विश्व अर्थव्यवस्था में होने वाली उठापटक का मुद्दा छाए रहने की संभावना है। भारत ने इसको लेकर गहरी चिंता जताई है। इस बैठक में भाग लेने के लिए विदा होने से पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली कहा कि करेंसी अवमूल्यन ग्लोबल इकॉनोमी के लिए बड़ी चुनौती है।

ये भी पढ़ें : 69 तेल व गैस फील्ड्स की नीलामी जल्द

उन्होंने कहा कि इससे स्वस्थ आर्थिक स्पर्धा की राह में बाधा उत्पन्न होती है। उन्होंने कहा कि भारत जी-20 की बैठक में करेंसी अवमूल्यन के मुद्दे को उठाएगा। इस बैठक में कालेधन के खिलाफ वैश्विक स्तर पर जारी लड़ाई के मामले में भी प्रगति की समीक्षा इसमें की जा सकती है। भारत के लिए कालेधन का मुद्दा काफी महत्वपूर्ण है।
बैठक में भाग लेने के लिए बृहस्पतिवार को अंकारा पहुंच गए। तुर्की की अध्यक्षता में जी-20 देशों के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंक के गवर्नरों की यह तीसरी बैठक है। बैठक चार और पांच सितंबर को दो दिन चलेगी। बैठक में जी-20 समूह के सदस्य देशों के वित्त मंत्री, केंद्रीय बैंक के गवर्नर, आमंत्रित देश और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक जैसे अंतरराष्ट्रीय संगठनों के प्रतिनिधि शामिल होंगे।
नवंबर में होने वाले अंतालया शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित दुनिया के प्रमुख नेताओं के भाग लेने की उम्मीद है। भारत ने हाल में प्रमुख मुद्राओं के अवमूल्यन के बाद दुनिया की कई उभरती अर्थव्यवस्थाओं की करेंसी में अवमूल्यन से इस क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा का माहौल बनने की आशंका जताई है।

नीचे की स्लाइड्स में पढें, पूरी खबर-

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर -
Next Story
Top