Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

AFTF ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डाला, आतंकी संगठनों को देता था फंड

पाकिस्तान को हर परिस्थिति में उसका साथ देने वाला चीन समर्थन देने से पीछे हट गया।

AFTF ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डाला, आतंकी संगठनों को देता था फंड

भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान को अंतरराष्‍ट्रीय मंच पर बड़ा झटका लगा है। आतंकवादी संगठनों को फंड मुहैया कराने वाले देशों पर नजर रखने वाली संस्‍था फाइनेंशियल एक्‍शन टास्‍क फोर्स (एफएटीएफ) ने पाकिस्‍तान को 'ग्रे लिस्‍ट' में डाल दिया है।

आपको बता दें कि ग्रे लिस्ट में शामिल देशों पर टेरर फंडिग के लिए कड़ी निगरानी रखी जाती है। इसके अलावा भी पाकिस्तान को एक ओर बड़ा झटका लगा है।

इन देशों ने किया समर्थन

दअसल पाकिस्तन कि हर परिस्थिति में उसका साथ देने वाला चीन भी इस मसले पर समर्थन देने से पीछे हट गया। सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान के खिलाफ अमेरिका द्वारा पेश किए गए प्रस्ताव का भारत, ब्रिटेन, चीन और फ्रांस जैसे देशों ने समर्थन किया।

चीन ने लिया विरोध वापस

बता दे कि चीन ने प्रस्‍ताव पर पहले आपत्ति जताई थी, लेकिन बाद में विरोध को वापस ले लिया था। इसके बाद पेरिस में चल रही एफएटीएफ की बैठक में पाकिस्तान को आम सहमति से 'ग्रे लिस्‍ट' में डालने का फैसला ले लिया गया। हालांकि इस फैसले की अभी आधिकारिक घोषणा अभी नहीं की गई है।

विदेश निवेश लाना होगा मुश्किल

पाकिस्तान के साथ कारोबार करने की इच्छुक अंतरराष्ट्रीय कंपनिया, बैंक और ऋण देने वाली अन्य संस्थाएं वहां निवेश करने से पहले कई बार सोचेंगी। कहा जा रहा है कि पाकिस्तान के लिए भी विदेश निवेश लाना काफी मुश्किल हो जाएगा।

पाकिस्तान को डाला गया था वॉच लिस्‍ट

पाकिस्‍तान को मनीलांड्रिंग के मामले में साल 2012 से 2015 तक के लिए वॉच लिस्‍ट में डाल दिया गया था। लेकिन, इस बार आतंकी संगठनों को धन मुहैया कराने के मामले में कार्रवाई की गई है।

जानिए क्‍या है एफएटीएफ

एफएटीएफ की स्‍थापना वर्ष 1989 में गई थी। यह एक अंतरसरकारी संस्‍था है। एफएटीएफ का मुख्य उद्देश्य मनीलांड्रिंग, आतंकियों को धन मुहैया कराना और अंतरराष्‍ट्रीय वित्‍त व्‍यवस्‍था को नुकसान पहुंचाने वाले अन्‍य खतरों के प्रति ठोस कार्रवाई करना है।

संगठन द्वारा लिया गया फैसला सदस्‍य देशों के लिए बाध्‍यकारी होता है।

Next Story
Top