Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मधुबन महोत्सव में नामी हस्तियों ने की शिरकत, पौधे लगाकर दिया ये संदेश

पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय ने मधुबन महोत्सव (Madhuban Mahotsav) का उद्घाटन किया और पीपल बाबा की संस्था गिव मी ट्री ने बड़े स्तर पर पौधारोपण किया। यह कार्यक्रम तीन दिन तक चला। जिसमें सभी दल के नेताओं ने शिरकत की।

मधुबन महोत्सव में नामी हस्तियों ने की शिरकत, पौधे लगाकर दिया ये संदेश
X

पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय ने मधुबन महोत्सव (Madhuban Mahotsav) का उद्घाटन किया और पीपल बाबा (Peepal Baba) की संस्था गिव मी ट्री (Give Me Trees Trust) ने बड़े स्तर पर पौधारोपण किया। यह कार्यक्रम तीन दिन तक चला। जिसमें सभी दल के नेताओं ने शिरकत की।

मौके पर पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोध कांत सहाय ने कहा कि जहां कहीं भी देश में लोगों को जोड़ने और खुद जुड़कर कार्य करने की जरूरत होगी। वहां वो हमेशा पहुंचेंगे और अपना सहयोग देंगे। इस दौरान अखिल भारतीय पंचायत परिषद के कार्यवाहक अध्यक्ष अशोक चौहान, महामंत्री ध्यान पाल सिंह जादौन, प्रदेश अध्यक्ष अशोक सिंह जादौन और राष्ट्रीय हिंदी एकता मिशन के राणा सिंह समेत कई लोग शामिल हुए।

स्कूल के बच्चों को पढ़ाया गया पर्यावरण का पाठ

26 से 28 सितंबर तक चलने वाले इस पीपल बाबा की टीम नें रजिस्ट्रेशन फॉर प्लांटेशन कार्यक्रम के जरिए पौधारोपण किया। इस महोत्सव में स्कूलों के बच्चों और उनके शिक्षकों को पर्यावरण का पाठ सिखाया गया। जहां भी पौधारोपण किया गया, वहां के लोगों को उनकी देखभाल की जिम्मेदारी दी गई।

हिंदी को रोजगार का जरिया बनाने का लिया संकल्प

राष्ट्रीय हिंदी एकता मिशन के अध्यक्ष राणा सिंह अपनी पूरी टीम के साथ मधुबन महोत्सव में हिस्सा लेने आये और हिंदी पढने वाले बच्चे कैसे सफल हो सकते हैं। इस पर लोगों को प्रशिक्षण दिया। उन्होंने बताया कि देश के कई राज्य भी राष्ट्रीय भाषा को अब तक प्रमोट नहीं कर सके हैं। आजादी के 75 साल बाद भी गैर हिंदी भाषी राज्यों की तादाद काफी है, हिंदी को देश के हर राज्यों के हर घरों तक पहचाने के लिए हिंदी भाषी राज्यों के पढ़े लिखे युवाओं को ड्यूटी पर लगाना चाहिए। हिंदी और हिंदी मीडियम को लोग खुद को कमजोर समझते हैं, लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं है। जैसे पूरी दुनियां में अंग्रेजी फ़ैल चुकी है वैसे ही हिंदी के प्रसार के लिए अभियान चलाए जाने की जरूरत है।

हरित मधुबन अभियान की शुरुआत

मधुबन महोत्सव में पीपल बाबा नें हरित मधुबन प्रोजेक्ट की शुरुआत कठघरा शंकर गांव के शहीद स्मारक में पौधारोपण कर किया गया। इस अभियान के जरिए आगामी 5 सालों में इस पूरे क्षेत्र की खाली जमीनों को हरित पट्टियों में तब्दील करके यहां के वातावरण को स्वास्थ्यवर्धक बनाया जाएगा। इस मौके पर पीपल बाबा ने कहा कि देश में ऑक्सीजन की कमी से ढेर सारी दिक्कतें उभर कर आ रही है। इसे पूरा करने के लिए हमने प्लांटेशन को अपना फूल टाइम पेशा बनाया है। अगर देश का हर नागरिक पौधारोपण करें और उनकी देखभाल करें तो समस्या पूरी तरह से समाप्त हो जाएगी।

मतभेद को मिटाकर सब साथ चलेंगे

इस अभियान के आयोजक और देश के मशहूर रणनीतिकार बद्रीनाथ ने कहा कि यह एक शुरुआत थी, जिसमें सभी दलों और दिलों की दूरियां मिटाकर एक साथ ले चलने का काम किया जायेगा और मतभेद को मिटाया जायेगा। आगे इसे और खूबसूरत अंदाज में मनाया जायेगा।



Next Story