Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

असली आया भी नहीं कि 2000 का नकली नोट बाजार में

नकली नोट ने बाजारों में अपनी दस्तक दे दी है।

असली आया भी नहीं कि 2000 का नकली नोट बाजार में
बेंगलुरु. 8 नवंबर को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सभी 500 और 1000 के नोटों को बंद करने के फैसले से कई लोग नाखुश हैं तो कुछ लोग इससे बहुत खुश भी हैं। इस बीच नोट बंद होने से कई जगह लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। कुछ जगहों पर 500 और 1000 के नोटो को नहीं लिए जाने के कारण जान चली गई। नोट बैन किया गया है ताकि नकली नोटों पर लगाम लगाया जा सके लेकिन अभी असली 2000 और 500 के नोट बाजार में सही से आए भी नहीं की नकली नोट ने बाजारों में अपनी दस्तक दे दी है।
जी हां नोटबंदी के बाद अभी तक 500 और 2000 के नए नोट लोगों तक पहुंचे भी नहीं है लेकिन 2000 के नकली नोट की खबरें आने लगी हैं। चिकमंगलूर के एपीएमसी बाजार में 2000 रुपए का नकली नोट सब्जी वाले को किसी ने पकड़ा दिया जिसे सब्जी वाले ने बाद में वापस कर दिया। पुलिस ने मामले पर जांच-पड़ताल शुरू कर दी है।
एनबीटी की खबर के मुताबिक, नकली नोट का रंग हूबहू नए 2000 के नोट की तरह है। नोट को देख कर लग रहा है कि उसके किनारों को कैंची से काटा गया है। लोगों को अभी 500 और 2000 के नोट की पहचान नहीं हो पाई है जिसका फायदा उठाया जा सकता है।
गौरतलब है कि भारतीय सांख्यिकी संस्थान ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया था कि भारतीय अर्थव्यवस्था में 300 करोड़ रुपए की फेक करंसी चलन में है। नोटबंदी के पीछे सरकार का उद्देश्य फेक करंसी पर लगाम लगाना भी था।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top