Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बवाना हादसे में घायल हुए शख्स ने सुनाई आप बीती, बताया कैसे हुआ ये सब

दिल्ली के बवाना में एक फैक्ट्री में लगी आग में घायल हुए रूप प्रकाश ने आपबीती सुनाई। इस हादसे में उसके तीन भाईयों की मौत हो चुकी है।

बवाना हादसे में घायल हुए शख्स ने सुनाई आप बीती, बताया कैसे हुआ ये सब

दिल्ली के बवाना में हुए हादसे को लेकर एक शख्स ने अपनी आपबीती मीडिया के सामने सुनाई है। इस हादसे में अपनी जान बचाने में कामयाब हुई रुप प्रकाश ने इस पूरे हादसे के बारे में बताया है।

रूप प्रकाश ने बताया कि उन्होंने अपने छोटे भाई रोहित समेत अन्य दोनों भाइयों को बचाने की बहुत कोशिश की, लेकिन जब कोशिशें बेकार हो गईं, तो उन्होंने छत से कूदकर अपनी जान बचाई।

इसे भी पढ़ें : वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम: दावोस के लिए रवाना हुए पीएम मोदी, इन अहम बातों को रखें दुनिया के सामने

उन्होंने बताया कि फैक्ट्री से कामगार बाहर न जा सकें इसलिए मालिक ने फैक्ट्री के गेट में ताला भी लगा दिया था, जिसके चलते जब आग लगी, तो लोगों अपनी जान बचान के लिए बाहर तक नहीं निकल पाए थे।

बता दें कि इस हादसे में उसके तीन भाईयों की मौत हो चुकी है। अग्निकांड में अपनी जान गवाने वाले तीन भाई (रोहित, संजीत और सूरज कजिन) उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के रहने वाले हैं।

इसे भी पढ़ें : अफगान: काबुल के एक होटल में बड़ा आतंकी अटैक, 5 की मौत गोलीबारी में मौत, तालिबान ने ली जिम्मेदारी

रोहित व संजीत रिश्ते में चचेरे भाई हैं। जबकि मृतक सूरज, रोहित के मौसेरे भाई हैं। अपने बड़े भाई रूप प्रकाश के साथ ये तीनों भाई पटाखें की फैक्ट्री में काम करते थे। इन तीनों को रूप प्रकाश ने अपने साथ पटाखों की फैक्ट्री में लगवाया था।

जहां ये ओवरटाइम करते थे, जिसके लिए इन्हें ज्यादा पैसा मिल रहे थे। हादसे के वक्त रूप प्रकाश ने तो फैक्ट्री की छत से कूदकर अपनी कैसे ना कैसे अपनी जान बचा ली, लेकिन छत से कूदने पर उनका पैर टूट गया।

इसे भी पढ़ें : जस्टिस लोया केस: एसआईटी से जांच की मांग वाली याचिका पर SC में सुनवाई, जानें पूरा मामला

रविवार को अंबेडकर अस्पताल में रोहित, संजीत व सूरज के शवों के पोस्टमार्टम होने के बाद उनके शव परिजनों को सौंप दिए गए। परिजन शवों को अंतिम संस्कार के लिए उन्नाव लेकर चले गए।
Next Story
Share it
Top