logo
Breaking

खुलासा: NRI पति करते हैं ज्यादा टॉर्चर, हर 8 घंटे में पैरेंट्स से मदद मांगती हैं बेटियां

भारत में हर मां-बाप अपनी बेटी के लिए ऐसा पति चाहते हैं जो उनकी लाडली बेटी को सारी सुख-सुविधाएं दे, यही वजह है कि पिछले कुछ सालों में NRI लड़कों की डिमांड बढ़ी है।

खुलासा: NRI पति करते हैं ज्यादा टॉर्चर, हर 8 घंटे में पैरेंट्स से मदद मांगती हैं बेटियां

भारत में हर मां-बाप शादी के बाद अपनी बेटी को सुखी देखना चाहते हैं। इसलिए वो अपनी बेटी के लिए ऐसा पति चाहते हैं जो उनकी लाडली बेटी को सारी सुख-सुविधाएं दे। यही वजह है कि पिछले कुछ सालों में NRI लड़कों की डिमांड बढ़ी है।

विदेश में रह रहे इन लड़कों पर माता-पिता अक्सर आंख बंद कर भरोसा कर लेते हैं और अपनी बेटी की शादी कर देते हैं। लेकिन विदेश मंत्रालय की एक रिपोर्ट पढ़ने के बाद आपकी आंखे खुल जाएगी। इस रिपोर्ट के मुताबिक, हर 8 घंटे में एक बेटी अपने परिजनों से मदद मांगने के लिए भारत फोन करती है, जिसके पीछे बहुत से कारण हैं।

यह भी पढ़ें- कानपुर: मासूम बच्चे को 11वीं मंजिल से फेंक मां ने की आत्महत्या, ये थी वजह

जिनमें पति द्वारा छोड़ा जाना, बुरा बर्ताव करना और शारीरिक प्रताड़ना देना मुख्य कारण है। इसे लेकर विदेश मंत्रालय को 1 जनवरी 2015 से 30 नवंबर 2017 के बीच 3,328 शिकायतें मिली हैं। इन शिकायतों के अनुसार, एक लड़की ने दिन में तीन से ज्यादा बार और एक बार रात में अपने पैरेंट्स को फोन किया है।

इस केस में ज्यादातर महिलाएं पंजाब, गुजरात और आंध्र-तेलंगाना की हैं। वहीं सार्वजनिक सहयोग और बाल विकास की 1 साल पहले आई रिपोर्ट ने भी इन कारणों की पुष्टि की है।

अमेरिका के भारतीय दूतावास में काम कर रही आरती राव के मुताबिक, अधिकतर महिलाएं आंध्र प्रदेश की होती हैं, जहां आज भी दहेज प्रथा मजबूत है। लड़के पहले अपने मां-बाप की खुशी के लिए स्वदेश आकर उनकी पसंद की लड़की से शादी करते हैं लेकिन उसके साथ रहने का उनका कोई इरादा नहीं होता है। लगभग सभी देशों में विदेश मंत्रालय इन महिलाओं की मदद करने की कोशिश करता है।

Loading...
Share it
Top