Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पाक के परमाणु मिसाइल बाबर-3 का लॉन्चिंग वीडियो था ''फर्जी''

मिसाइल विशेषज्ञों ने पाक के मिसाइल वीडियो पर सवाल उठाए हैं।

पाक के परमाणु मिसाइल बाबर-3 का लॉन्चिंग वीडियो था
इस्लामाबाद. पाकिस्‍तान द्वारा किए गए परमाणु-मिसाइल बाबर-3 के परीक्षण पर संदेह जाहिर किया जा रहा है। पाक के बाबार-3 क्रूज मिसाइल के लॉन्‍च के कुछ घंटों बाद उसकी प्रमाणिकता संदेह के घेरे में आ गई है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्‍तान ने लॉन्‍च वीडियो में फर्जीवाड़ा किया है। मिसाइल विशेषज्ञों ने तकनीकी सबूत सामने रखकर दावा किया है कि पाकिस्‍तान ने फर्जी मिसाइल वीडियो जारी किया है।
पठानकोट के एक सैटेलाइट इमेजरी एनालिस्‍ट ने ट्वीट्स करके पाक द्वारा किए गए बाबार-3 के परीक्षण के वीडियो पर संदेह व्यक्त किया है। मिसाइल विशेषज्ञ ने दावा किया कि पाकिस्‍तान ने स्‍वदेशी बैकग्राउंड पर कंप्‍यूटर द्वारा बनाई गई मिसाइल की तस्‍वीरें इस्तेमाल करके दिखाया कि बाबर-3 का लॉन्‍च सफल रहा। भारत के भी कई रक्षा विशेषज्ञों ने पाकिस्‍तानी सेना द्वारा जारी किए गए वीडियो को कंप्‍यूटर-जनित बताया है। वीडियो में मिसाइल का रंग सफेद से नारंगी हो जाता है। कई विशेषज्ञों ने मिसाइल की स्‍पीड को बहुत ज्‍यादा बताया है।
पाकिस्‍तान के इंटर-सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (ISPR) के डायरेक्‍टर जनरल, मेजर जनरल आसिफ गफूर ने मिसाइल लॉन्‍च की जानकारी ट्विटर पर दी थी। ISPR के डीजी ने कहा था कि मिसाइल की रेंज 450 किलोमीटर है। पाकिस्‍तान का दावा था कि ‘मिसाइल को हिंद महासागर में एक गुप्‍त स्‍थान से छोड़ा गया था। यह पानी के भीतर, गतिमान प्‍लेटफॉर्म से छोड़ी गई और ठीक निशाने पर लगी।’ बाबर-3 जमीन से लॉन्‍च की जा सकने वाली क्रूज मिसाइज बाबर-2 का उन्‍नत संस्‍करण है, जिसका दिसंबर में सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया था।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top